Sleep Disorders

अच्छी सेहत के लिए पर्याप्त नींद लेना जरूरी होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि जरूरत से ज्यादा नींद लेना सेहत को बिगाड़ भी सकता है। जी हां, ज्यादा नींद लेना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। जानि‍ए ज्यादा नींद लेने के नुकसान। Jyada Sone ke Nuksaan in Hindi

Bad Effects of Oversleeping in HindiBad Effects of Oversleeping in Hindi

(Jyada Sone ke Nuksan)

डिप्रेशन (Depression due to Oversleeping)

पर्याप्त मात्रा से अधि‍क नींद लेना दिमाग को स्वस्थ रखने के बजाए आपको डि‍प्रेशन (depression) का शि‍कार बना सकता है। शोध में यह साबित हुआ है कि 7 घंटे से अधि‍क सोने वालों को मानसिक तनाव का खतरा ज्यादा होता है। इसके अलावा 9 घंटे से अधि‍क नींद लेने पर डिप्रेशन (depression) की संभावना 49 प्रतिशत बढ़ जाती है।

 

डायबिटीज (Diabetes due to Oversleeping)

एक शोध में यह साबित हुआ है कि जो लोग रोजाना आठ घंटे से ज्यादा नींद लेते हैं उन्हें डायबिटीज होने की संभावना उन लोगों की अपेक्षा में दुगुनी हो जाती है, जो आठ घंटे से कम नींद लेते हैं।

 

दिल की बीमारी (Heart Problem due to Oversleeping)

एक शोध इस बात का खुलासा करता है कि आठ घंटे या इससे अधि‍क नींद लेने वाले लोगों को कोरोनरी हार्ट डिसीज (Coronary heart disease) होने का खतरा दुगुना हो जाता है, बजाए उनके, जो आठ घंटे से कम नींद लेते हैं।

 

प्रेग्नेंसी (Effect of Oversleeping in Pregnancy)

एक शोध में यह बात सामने आई है कि आठ घंटे से ज्यादा नींद लेने वाली महिलाएं, जो 9 से 11 घंटे की नींद लेती हैं, उनके प्रेग्नेंट (pregnant) होने की संभावनाएं, आम महिलाओं जो 7 से 8 घंटे की नींद लेती हैं, उनकी तुलना में आधी हो जाती है।

 

दिमागी कमजोरी (Mental Weakness due to Oversleeping)

ज्यादा नींद लेना दिमाग को आराम देने के बजाए आपके दिमाग को कमजोर करता है और याददाश्त को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Image Source

Also Read

नींद नहीं आती है तो ये पौधे होंगे आपके लिए मददगार

अच्छी नींद के लिए गरम दूध है फायदेमंद

अच्छी नींद ले कर वजन कम करे

हमे नींद की जरूरत क्यों होती है

Remedies for Insomnia in Hindi

आज कल की बदलती जीवनशैली के चलते नींद न आने की समस्या बहुत आम हो गयी है, जो हमारे सेहत के साथ-साथ पूरी जिंदगी को प्रभावित करती है। इसके इलाज के लिए कई तरह के बदलाव के साथ-साथ लोग लाखों रूपए खर्च कर देते हैं, लेकिन फिर भी नतीजा कुछ नहीं निकलता है। अगर आप भी उन लोगों में से हैं, तो यह लेख आपके लिए ही है। Read Insomnia neend na ane ke gharelu upay homeremedies

 

Remedies for Insomnia in Hindi

(Neend Na Ane ka Upchar) neend na aane ke tips in hindi

Insomnia neend na ane ke gharelu upay homeremedies

सामान्यत: बहुत से लोग इस बात को नहीं जानते है, कि आपके कमरे में आने वाली वायु की गुणवत्ता, आपकी नींद और उससे जुड़े सेहत के अन्य पहलुओं को बहुत  प्रभावित करती है। वायु के साथ उसमें मौजूद कण कई तरह की समस्याओं का कारण हो सकते हैं। इसलिए घर में ताजातरीन वायु का होना बहुत जरूरी है। घर के अंदर रखे कुछ पौधे इन समस्याओं को दूर करने में आपकी मदद करेंगे।

टिंडौरी बेल (Tindori Bel for Insomnia in Hindi)

सब्जी के रूप में प्रयोग की जाने वाली टिंडौरी का पौधा (बेल) सबसे बेहतर वायु शोधक के रूप में जाना जाता है। शोध के अनुसार यह वायु को 94 % तक शुद्ध करने का काम करता है। यह खास तौर से रात के समय अस्थमा या सांस संबंधी समस्याओं में काफी लाभदायक होता है और आरामदायक नींद के लिए यह बेहतरीन है।

एलोवेरा (Aloevera for Insomnia in Hindi)

एलोवेरा यानि ग्वारपाठे का पौधा घर में रखना केवल नींद के लिए ही नहीं बल्कि सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। एलोवेरा रात के समय oxygen का निष्कासन करता है जिसका सकारात्मक असर सेहत पर भी नजर आता है। यह अनिद्रा (sleeplessness) की बीमारी से बचाता है और बेहतर गुणवत्ता वाली नींद भी देता है।

चमेली (Jasmine for Insomnia in Hindi)

इस आकर्षक और खुशबूदार पौधे को घर में लगाने के अनगिनत फायदे हैं। यह न केवल आपके तनाव और बेचैनी को कम करता है बल्कि आपको बेहतरीन नींद भी देता है। यही नहीं, बेहतर नींद लेने के बाद आप खुद को तरोताज़ा, कफी सक्रिय और सतर्क भी महसूस करते हैं। मानसिक रोग होने की स्थि‍ति में यह बेमि‍साल साबित होता है।

Also Read  हमे नींद की जरूरत क्यों होती है

लैवेंडर (Lavender for Insomnia in Hindi)

अब तक आपने lavender oil या इससे जुड़े अन्य फायदों के बारे में सुना होगा, लेकिन इस पौधे को घर में लगाने के बाद आपको इसके कई फायदे मिल सकते हैं। यह वातावरण के साथ-साथ आपके मूड को भी सकारात्मक बनाए रखता है। इसके अलावा यह बेचैनी और तनाव को भी कम करता है, साथ ही बेहतर और आरामदायक नींद लेने में मदद करता है। रात में सोते समय बच्चों का रोना भी इससे कम होगा।

स्नेक प्लांट (Sarpgandha for Insomnia in Hindi)

यह पौधा केवल आपके घर की सजावट को बढ़ाने के लिए ही नहीं, बल्कि यह आपको बेहतर नींद भी देता है। यह वायु की शुद्धता को बनाए रखने के साथ साथ वातावरण को बेहतर बनाए रखने में मदद करता है।

यह पौधा सांस संबंधी तकलीफ, आंखों में होने वाली असहजता और सिरदर्द की समस्या को कम करने में मदद करता है और आपको सक्रिय बनाता है। अच्छी नींद ले कर वजन कम करे

Image Source

अच्छी नींद के लिए गरम दूध है फायदेमंद

आइये जानते है नींद लाने के सरल उपाय

निद्रा-विचरण (Sleep Walking) को रोकने की घरेलू चिकित्सा

घरेलु नुस्खे के लाभ – Home Remedies in Hindi

घरेलु नुस्खों से करे वजन कम

देश भर में कई लोगों को नींद में चलने की समस्या रहती है। इसमें लोग नींद में उठकर चलना शुरू कर देते हैं। अपने कमरे में, घर में तो ठीक है मगर कई लोग तो घर से दूर भी नींद में चलते देखे जाते हैं जो कई बार बहुत खतरनाक भी हो सकता है। इसलिए इस समस्या का इलाज पूरे तरीके से किया जाना चाहिए और जिसके लिए तुरंत एक doctor के पास जाकर परामर्श और चिकित्स करानी चाहिए। Read Sleepwalking neend me chalna home Remedies in Hindi

Sleep Walking in Hindi

(Neend Mein Chalne ki Beemari ke Bare Mein Jane)

निद्राविचरण के कारण (Neend me chalne ke karan)

  • बाधक निंद्रा अश्वसन (obstructive sleep apnea)
  • पीरियडिक लेग मूवमेंट (periodic leg movement)
  • रेस्टलेसनेस लेग सिंड्रोम (restlessness leg syndrome)
  • उद्वेग (seizure)
  • गैस्ट्रोइसोफ़ेगल रिफ़्लक्स (Gastroesophageal reflux)

अगर किसी को नींद में चलने की बीमारी हो तो तुरंत उसका सही तरीके से उपचार कराए। इस बीमारी में कई बार कोई दवाएं भी काम नहीं करती हैं।

निद्राविचरण से बचने के कुछ साधारण तरीके (Sleepwalkig ka gharelu upchar)

  • व्यायाम करें
  • योग करें
  • उपयुक्त नींद लें
  • तनावरहित वातावरण रखें
  • उत्तेजित होकर न सोयें

निद्राविचरण की घरेलू चिकित्सा

 Sleep Walking Home Remedies

1. जल्दी उठना (Wake up Early to Avoid Sleep Walking in Hindi)

अगर किसी व्यक्ति या बच्चे को नींद में चलने की आदत हो उसे सुबह 15 से 20 minute जल्दी उठना चाहिए। साथ ही अन्य लोग भी तब तक जागते रहे जब तक नींद में चलने वाले व्यक्ति का वह समय न निकल जाए।

2. कारण का पता लगाए (Find the Cause of Sleep Walking in Hindi)

तनाव के कारणों का पता लगाए और इससे दूर रहने का प्रयास करें। आपके बच्चे को अगर यह बीमारी है तो उससे बात करें और उसकी समस्या को पहचाने।

3. विश्राम की तकनीकें (Way to Take Rest to Avoid Sleep Walking in Hindi)

ज्यादातर लोग अपनी ख़राब दिनचर्या की वजह से तनाव में रहते हैं। परिवार और पैसे की समस्या भी लोगों के तनाव का कारण बनती हैं, जिससे लोग में निद्रा-विचरण (Sleep Walk) की समस्या शुरू होती है। इससे बचने के लिए कुछ समय काम से छुट्टी लें और घर से दूर किसी शान्त जगह पे जाएँ।

4. नियमों को अपनाएँ (Follow Rules to Avoid Sleep Walking in Hindi)

जब किसी बच्चे को यह समस्या होती है तो ज्यादा मुश्किल हो जाती है, क्यूंकि बच्चों में समझ का कम होती है। ऐसे में माता पिता को उसके नींद में चलने के समय का अवलोकन (observe) कर नियम बना लेना चाहिये कि उसके नींद में चलने के समय से 10 minute पहले ही माता पिता उठ जाएँ।

5. मानसिक कल्पना (Mental Imagination to Avoid Sleep Walking in Hindi)

मानसिक कल्पना की प्रक्रिया द्वारा भी निद्रा-विचरण (Sleep Walk) से छुटकारा पाया जा सकता है। कई लोगों ने इस प्रक्रिया द्वारा इस समस्या से निजात पाया है।

Image Source

नींद का उपचार Insomnia Home Remedies in Hindi

हमे नींद की जरूरत क्यों होती है

आइये जानते है नींद लाने के सरल उपाय

Benefits Of Sleeping In Hindi

लाखो लोग नींद की बिमारी से परेशान रहते है। बहुत सी नींद की बिमारियों का इलाज नहीं हो पाता। प्राकृतिक तरीको से नींद की बिमारियों का इलाज करना जरूरी है। Read Benefits of Sleeping in Hindi (Sona Kyu Jaroori Hai).

Sona Kyu Jaroori Hai

Benefits Of Sleeping In Hindi

(Sona Kyu Jaroori Hai)

  • अगर रात में नींद की कमी है तो इससे कोलेस्ट्रोल तथा ब्लड प्रेशर का लेवल बढ़ जाता है। इससे हार्ट स्ट्रोक तथा हार्ट बिमारियों की संभावना बढ़ जाती है।
  • जो लोगों 9 घण्टे से कम नींद लेते है उनमें वजन बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है। हार्मोन्स में मौजूद लेप्टीन तथा ग्रेलिन जो भूख को नियंत्रण में रखता है नींद की कमी के कारण डिस्टर्ब हो जाता है।
  • अच्छी नींद लेने से दिमाग ठीक से काम करता है। पर्याप्त नींद अगले दिन के लिए व्यक्ति को तरो-ताजा कर देती है। यह याददाश्त बढ़ाती है।
  • दिन में एक छोटी सी झपकी लेने के बाद आप तरोताजा महसुस करते है तथा यह केफीन की आदत से भी बचाती है।
  • शरीर में टूट-फूट की मरम्मत नींद के समय होती है। हृदय तथा रक्त नलिकाएँ, हृदय की बिमारियाँ, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर तथा किडनी की बिमारियों को कम करने में मदद करती है।
  • अच्छी नींद लेने से ब्लड शुगर का लेवल संतुलित रहता है।
  • अगर आप अच्छी नींद लेते है तो पूरे दिन खुश रहते है। रात को अच्छी नीद अगले दिन के लिए तैयार रखती है।
  • नींद की कमी आपको पूरे दिन तनाव में बनाए रखती है। इससे ब्लड प्रेशर में वृद्धि होकर तनाव बढ़ाने वाले हार्मोन्स सक्रिय होते है।
Image Source

Warm Milk For Sound Sleep In Hindi

अच्छी नींद लेना स्वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। अगर आप भरपूर नींद लेते हैं तो कई बीमारियों से दूर रहते हैं। लेकिन अगर आपको भरपूर नींद नहीं आती है तो कई बीमारियां होना शुरू हो जाती हैं। नींद न आने के कारण शरीर उतना फुर्तीला और ऊर्जावान नहीं रहता है। Read Benefits of Warm Milk for Sound Sleep in Hindi (Acchi Neend ke Liye Garam Dudh).

Acchi Neend ke Liye Garam Dudh

Warm Milk For Sound Sleep In Hindi

(Acchi Neend ke Liye Garam Dudh)

दूध में एमिनो एसिड होता है जो दिमाग़ को नींद देने वाले केमिकल Serotonin और Melatonin के प्रोडक्शन को बढ़ाता है। Serotonin दिमाग़ को अच्छा फील करने वाला केमिकल है जो तनाव कम करता है। रात को दिमाग़ दूध के कैल्शियम की मदद से Serotonin को Melatonin में बदलता है, जिससे अच्छी नींद आती है।

रिसर्च के अनुसार कार्बोहाइड्रेट्स से युक्त भोजन के साथ प्रोटीन युक्त दूध Tryptophan के प्रोडक्शन को बढ़ाता है। रात को सोते समय दूध पीने से हमारी मसल्स मजबूत होती है और नींद अच्छी आती है।

टिप – आप गर्म दूध के साथ केला या सेब भी ले सकते है। यह अच्छी नींद के लिए उपयोगी है।

यदि नींद अच्छी तरह से आएगी तभी आपके सारे काम सही तरह से हो पाएँगे इसलिए किसी तरह की परेशानी लिए बिना आप अपनी नींद को अच्छी तरह से ले।

अगर आपको अच्छी नींद नहीं आती है तो आपको दालचीनी वाला दूध पीना चाहिए। सोने से पहले एक गिलास दालचीनी वाला दूध लें, इससे आपको अच्छी नींद आएगी।

Image Source

Tips To Get Sound Sleep In Hindi

अच्छी नींद लेना स्वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। अगर आप भरपूर नींद लेते हैं तो कई बीमारियों से दूर रहते हैं। लेकिन अगर आपको भरपूर नींद नहीं आती है तो कई बीमारियां होना शुरू हो जाती हैं। लोगो को नींद न आने की शिकायत होती है, उनके मन से निराशाजनक विचार निकल जाने चाहिए। तभी नींद लाने के उपाय कारगर होंगे। Read Tips to Get Sound Sleep in Hindi (Neend Aane Ke Upaye).

Neend Aane Ke Upaye

Tips To Get Sound Sleep In Hindi

(Neend Aane Ke Upaye)

  •  आधी रात से पहले की 2 घंटों की नींद, आधी रात के बाद के 4 घंटों की नींद के सामान्य है।
  • 6 से 7 घंटे की प्रतिदिन नींद पर्याप्त होती है।
  • रात साढ़े 9 बजे तक सो जाना चाहिए।
  • सोने से 3 घंटे पहले भोजन कर लेना चाहिए।
  • अच्छी नींद सोना के लिए रात को हल्का भोजन करें।
  • खाना खाने के बाद तथा सोने से पहले थोड़ी देर जरूर चलें जिससे भोजन पच जाए।
  • सोने के समय चिंतामुक्त रहें, मन में कोई फिक्र लेकर सोने जाए। चिंता सोने नहीं देती।
  • सोने से पहले प्राकृतिक क्रियाएं निपटा लें ताकि रात को उठना न पड़े।
  • कमरे तथा बिस्तर को साफ़ रखे, खिड़कियां खुल कर रखें।
  • रात को सोने से पहले कोई अश्लील साहित्य मत पढ़े और टीवी पर उत्तेजक, घटिया, भयानक सीरियल न देखें।
  • तेज रोशनी और शोर अपने कमरे में न आने दें।
  • सोते समय मन को और भावनाओं को शुध्द रखें।
  • भयमुक्त रह कर सोने की कोशिश करे।
  • सोने से पहले मुंह, दांत, हाथ, पांव साफ कर के सोए।
  • यदि हमेशा ही नींद न आने की शिकायत रहती है तो गर्म पानी में नमक डालकर पांव भिगोकर रखें। फिर हल्की मालिश करें, थकान मिट जाएगी।
  • सोने से पहले पांव के तलवों पर तेल मालिश करना फायदेमंद रहेगा।
Image Source

Snoring Causes in Hindi

सोने के दौरान जब हम सांस लेते है मुंह और नाक से घुसने वाली हवा पेलेट से होते हुए फैंफड़ों तक पंहुचती है। यहाँ कुछ खर्राटों के कारण (Kharrato ke Karan) दिए जा रहे है: (Read about Snoring Causes in Hindi)

Symptoms Of Snoring In Hindi

Snoring Causes in Hindi

(Kharrato ke Karan)

  • नींद के दौरान हमारा शरीर प्राकृतिक तौर पर नाक से ही सांस लेने की कोशिश करता है परन्तु नाक के संकूचित होने की वजह से मुंह द्वारा सांस लेने को मजबूर होते है। हालांकि स्टफी नोज का कारण सामान्य सर्दी-जुकाम भी हो सकता है। यह नासिका में रूकावट पैदा करती है।
  • सोने से पूर्व शराब का अधिक सेवन खर्राटे की वजह बनता है। एल्कोहॉल एक निवारक के तौर पर कार्य करता है तथा यह गले की मांसपेशियों को आराम पंहुचाता है। अधिक समय तक अत्यधिक शराब पीने का परिणाम एल्कोहॉल कार्डियोमाइयोपैथी होता है। कार्डियोमाइयोपैथी के लक्षणों में सांस की तकलीफ भी शामिल है जो खर्राटों की मुख्य वजह में से एक है।
  • खर्राटों की मुख्य वजह में स्लिप एपनिया एक वजह है। स्लिप एपनिआ शब्द, सोने से संबंधित अनियमितता को सूचित करता है जो सोने के दौरान किसी व्यक्ति की सांस लेने में रूकावट की वजह से होता है। इस दौरान हमारे शरीर एवं दिमाग तक आवश्यक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता है।
  • स्लिप एपनिआ के खतरे के मुख्य कारणों में मोटा होना, 40 साल से ऊपर की उम्र, गर्दन के आकार का बड़ा होना, बड़ी जीभ, जबड़े की हड्डियां छोटी होना, नासिका में डेविएटेड सेप्टम की वजह से अवरोध एलर्जी एवं साइनस की समस्या आदि शामिल हो सकते है।

Tips to Get Rid of Snoring in Hindi

खर्राटे हमारे एवं हमारे प्रियजनों के जीवन में हस्तक्षेप पैदा करते है। खर्राटों को रोकने के कुछ प्राकृतिक उपचार अपनाने से हमे प्रभावी परिणाम प्राप्त हो सकते है। Read Tips to Get Rid of Snoring in Hindi (Kharrato Ka Gharelu Upchar).

Kharrato Ka Gharelu Upaye

Tips to Get Rid of Snoring in Hindi

(Kharrato Ka Gharelu Upchar)

  • खर्राटों के उपचार में नासिका मार्ग के अवरोध को दूर करना भी शामिल है। हमारे नासिका मार्ग को नम रखने के लिए हम खर्राटों के निम्न उपचार को अपना सकते है- वेपोराइजर का उपयोग करे, अधिक मात्रा में तरल पीएं जो आपके नाक के द्रव्य को पतला कर देगा, नासिका के लिए नासिका द्रव्य उपयोग में ले जो नाक को शुष्क होने से रोकेगा। गिले टॉवल के साथ वार्म कम्प्रेसेस को चेहरे पर इस्तेमाल करे जो नासिका द्वार को खोलने में सहायक है।
  • रात्रि में तकियों के जोड़े के ऊपर अपने सिर को ऐसे रखते हुए सोए की सांस लेने में सुविधा हो। जब आप पीठ के बल सोते है तब गले के पिछले हिस्से पर जीभ का पिछला भाग एवं सोफ्ट पेलेट आपस में दब जाते है। एक तरफ सोने से इस समस्या से बचा जा सकता है।
  • व्यायाम आपके जबड़े, जीभ एवं मुंह की मांसपेशियों को मजबूत रखता है तथा नींद के दौरान मांसपेशियों को मजबूत रखता है आदि श्वसन मार्ग की रूकावट को कम करता है। अधिक वजन भी खर्राटों के मुख्य कारणों में से एक हो सकता है।
  • गाना खर्राटों को खत्म करने के सबसे बढ़ीया व्यायाम में से एक है। पेशेवर गायक प्रर्दशन से पहले अपने गले को तैयार करते है वैसे ही तैयारी गले के साथ करना अच्छा होता है। खर्राटे के उपचार में जबड़ों का व्यायाम भी शामिल है। सबसे आसान व्यायाम में एक व्यायाम चबाना भी है। हम जबड़ों को चबाने की तरह एक या दो मिनट तक ऊपर-नीचे हिला सकते है।

Sleep for Weight Loss in Hindi

आप सोच रहे होंगे की सो कर मोटापा कम कैसे करे। सोने से शरीर को आराम तो मिलता ही है पर 6 से 8 घंटे सोना मोटापा कम करने में भी मदद करता है। Read Sleep for Weight Loss in Hindi (Vajan Kam Karne Ke Liye Acchi Neend Le).

Sleep for Weight Loss in Hindi

Sleep for Weight Loss in Hindi

(Vajan Kam Karne Ke Liye Acchi Neend Le)

  • अगर आप वजन कम करना चाहते है तो पर्याप्त नींद लें।
  • यह शारीरिक कार्य क्षमता में वृद्धि करती है तथा मेटाबोलिज्म की दर में सुधार करती है।
  • अच्छी नींद हॉर्मोन पर भी प्रभाव डालती है तथा भूख में वृद्धि करती है।
  • यह भी देखा गया है की अच्छी नींद नहीं आने पर लोग मिठाई तथा जंक फूड खाने लगते है। इसके परिणाम स्वरूप थकान, चक्कर आना तथा एकाग्रता की कमी होने लगती है।
  • जो लोग देर रात तक कार्य करते है उन्हें नींद की कमी से मोटापे तथा डायबिटीज की समस्या हो सकती है।
  • 7-8 घंटे की नींद से व्यक्ति में एनर्जी आती है, उच्च केलोरी युक्त भोजन खाने से बचे रहते है तथा मोटापा नहीं आता है।
  • अच्छी नींद के लिए सोने के कुछ समय पहले कुछ भी न खाए, कुछ खा लेने से नींद आने में दिक्कत आती है। सोने से पहले टीवी भी न देखे, इससे नींद नहीं आती है।
  • अच्छी नींद के साथ साथ 30 मिनट की एक्सरसाइज और स्वस्थ खाना खाने से आप अपनी कमर को पतला कर सकते है।

Importance of Sleep in Hindi

नींद स्वस्थ जीवन तथा स्वास्थ्य को संतुलित रखने के लिए आवश्यक है। पर्याप्त मात्रा में नींद आपके शारीरिक स्वास्थ, मानसिक स्वास्थ्य, सुरक्षा तथा स्वस्थ जीवन शैली के लिए बहुत आवश्यक है। सुबह उठकर जिस तरह का आपका मूड होता है वह आपकी नींद पर ही निर्भर हैं। जब आप सोते है शरीर में बहुत से कारक सक्रिय होते है जो आपको अगले दिन के लिए सक्रिय करते है। किशोर उम्र के बालको तथा बच्चो के लिए नींद वृद्धि तथा विकास में सहायक है। नींद की कमी तथा पर्याप्त नींद नहीं लेने से चिड़चिड़ापन, बिमारी तथा एकाग्रता में कमी आ जाती है। Read Importance of Sleep in Hindi (Neend ki Jarurat).

Neend Ki Kyu Jarurat Hoti Hai in Hindi

हर व्यक्ति के लिए नींद तनाव से मुक्ति का प्राकृतिक तरीका है शरीर के सभी अंगो के ठीक से कार्य करने के लिए नींद आवश्यक है। नींद के समय सेल्स से प्रोटीन निकलते हैं जो वृद्धि तथा उत्तको की मरम्मत के लिए आवश्यक हैं।

Importance of Sleep in Hindi

हमें नींद की आवश्यकता क्यो है (Neend ki Jarurat Kyu Hoti Hai)

1. स्वस्थ हृदय (Proper Sleep for Healthy Heart)

अगर आपकी रात में नींद की कमी है तो इससे कोलेस्ट्रोल तथा ब्लड प्रेशर का स्तर बढ़ जाता है। इससे हार्ट स्ट्रोक तथा बिमारियों की संभावना बढ़ जाती है। रिसर्च के अनुसार वे व्यक्ति जो रोज 7 से 9 घंटे की नींद लेते है उनके ब्लड प्रेशर तथा कोलेस्ट्रोल लेवल नियंत्रण में रहता है।

2. वजन कम करना (Proper Sleep for Weight Loss)

जो लोगों 9 घण्टे से कम नींद लेते है उनमें वजन बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है। हारमोन में मौजूद लेप्टीन तथा ग्रेलिन जो भूख को नियंत्रण में रखता है नींद की कमी के कारण डिस्टर्ब हो जाता है।

3. दिमाग की कार्यप्रणाली (Proper Sleep for Functioning of Brain)

अच्छी नींद लेने से दिमाग ठीक ढ़ग से काम करता है। पर्याप्त नींद अगले दिन के लिए व्यक्ति को तरो-ताजा कर देती है। यह याददाश्त बढ़ाती है। यह सिखने तथा समस्या समाधान की क्षमता बढ़ाती है। यह डिप्रेशन, आत्महत्या के खतरो को कम करती है। नींद का असर व्यक्ति के वातावरण, इमोशन तथा व्यवहार पर होता है उनमें बेचेनी, उदासी, डिप्रेशन तथा गुस्सा बढ़ जाता है। अच्छी नीद से स्कूल में भी एकाग्रता बढ़ जाती है।

4. स्मार्ट कार्य (Proper Sleep for Smart Work)

दिन में एक छोटी सी झपकी लेने के बाद आप तरोताजा महसुस करते है तथा यह केफीन की आदत से भी बचाती है। इसके बाद दिमाग चुनौतियों का सामना करने में अधिक सक्षम हो जाता है। इससे क्रिएटिविटी भी बढ़ जाती है।

5. याददाश्त (Proper Sleep for Memory Gain)

आपका दिमाग नींद के समय अनुभव, याददाश्त, घटना के बीच सम्पर्क बनाये रखता है। यह यादों को दोहराने का उपयुक्त समय होता है। तथा भविष्य की दिशा निर्धारित करता है।

6. शारीरिक सुधार (Proper Sleep for Healthy Body)

शरीर की टूट-फूट की मरम्मत नींद के समय होती है। हृदय तथा रक्त नलिकाएँ, हृदय की बिमारियाँ, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर तथा गुर्दे की बिमारियों को कम करने में मदद करती है। यह ब्लड शुगर लेवल पर नियंत्रण रखने वाले हारमोन को भी प्रभावित करता है। अच्छी नींद लेने से ब्लड शुगर का लेवल संतुलित रहता है। यह डायबिटिज के खतरो को भी कम करता है। यह मांसपेशियों में वृद्धि करता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। तथा शरीर से हानिकारक पदार्थो को बाहर निकालता है।

7. ताज़गी प्रदान करता है (Proper Sleep for Freshness)

पर्याप्त नींद से आप रोज तरोताजा तथा एक्टिव बने रहते है। अगर आप अच्छी नींद लेते है तो पूरे दिन खुश रहते है। रात को अच्छी नीद अगले दिन के लिए तैयार रखती है।

 8. तनाव से मुक्ति (Proper Sleep for Freshness)

नींद की कमी आपको पूरे दिन तनाव में बनाए रखती है। इससे ब्लड प्रेशर में वृद्धि होकर तनाव बढ़ाने वाले हारमोन सक्रिय होते है। पर्याप्त नींद तनाव के चक्र को खत्म करके आपके दिमाग को शांत तथा ठण्डा बनाए रखती है।

9. जलन को कम करती है (Proper Sleep to Reduces Irritation)

तनाव बढ़ाने वाले हारमोन के कारण जलन बढ़ाने वाली बिमारियाँ हो जाती है जैसे पेरिओडोनिटिसस, रियुमेटोइड आर्थिरिटिस, कैंसर, डायबिटिज तथ हृदय संबंधित बिमारियाँ। उम्र बढ़ने के साथ-साथ जलन भी बढ़ती जाती है। रोज 7-8 घंटे की नींद लेने से आप उपर दी गई बिमारियाँ टाल सकते हैं।

10. सोलेनोइड बॉडी (Proper Sleep for Solenoid Body)

आपको कुछ समय सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणो, तनाव तथा अन्य कारणों से होने वाले नुकसान से शरीर की मरम्मत को देना जरूरी है। यह तय हो सकता है जब आप सोते है आपका पूरा शरीर रिलेक्स होता है तथा प्रोटीन को उत्तको की मरम्मत करने का मौका मिल जाता है।

लाखो लोग नींद की बिमारी से परेशान रहते है। बहुत सी नींद की बिमारियों का इलाज नहीं हो पाता। प्राकृतिक तरीको से नींद की बिमारियों का इलाज करना जरूरी है। अनेक ऐसे कारक है जो नींद के समय कार्य करते है तथा शरीर को तरोताजा करते हैं। बच्चो को 9 घण्टे नींद की आवश्यकता होती है। तथा व्यस्क लोगों को 7-8 घंटे नींद की चाहिए।

Load More ...