Digestive Health

Tips to Reduce Bloated Belly in Hindi

आज कल दुनिया भर में लोगों को पेट की सूजन की समस्या का सामना करना पडता है। ऐसी स्थिति में मरीज़ों को काफी बेचैनी महसूस होती है। ऐसी सूजन हो जाने पर आप घर से निकलने से पहले 10 बार बार सोचते है। इसके कई कारण हो सकते हैं। इनमे से कुछ यहाँ बताये गए है। Read Tips to Reduce Bloated Belly in Hindi (Pet ki Sujan Kam Karne ke Tarike).

Abdominal Pain In A Woman; Shutterstock ID 167919227; PO: today

पेट की सूजन के कारण (Causes of Bloated Belly)

  1. आँतों में गड़बड़ी (Intestinal Problem)
  2. हॉर्मोन का असंतुलन (Hormonal Imbalance)
  3. गर्भाशय का कैंसर (Ovarian Cancer)
  4. गैस की तकलीफ (Gas Problem)

Tips to Reduce Bloated Belly in Hindi

(Pet ki Sujan Kam Karne ke Tarike)

पेट की सूजन दूर करने के तरीके

पेट की सूजन कम करने के कई तरीके हैं। किसी doctor की सलाह से इस समस्या का हल निकाल सकते हैं। Doctor कुछ दवाइयाँ देकर इस समस्या से निजात दिला देंगे। पर कुछ लोगों को दवाइयों के side effects भी हो सकते हैं। ऐसी में सबसे अच्छा तरीका प्राकृतिक इलाज हैं।

  1. भूक लगने पर ही भोजन करे।
  2. पिछले पहर का भोजन हज़म होने के बाद ही अगले पहर का भोजन करें। एक पहर का भोजन करने के कम सेकम 3 घंटे बाद ही दूसरे पहर का भोजन करें।
  3. अगर गैस की समस्या हो तो खाने के बाद फल न खाये।
  4. खाने के हर निवाले को अच्छे से चबाएं। खाना खाते समय बात नहीं करनी चाहिए। भोजन को निगललेने से हाज़मे और पेट में सूजन की समस्या हो जाती है।
  5. खाना खाने से 20 मिनट पहले अदरक में नींबू का रस मिलाकर चबाएं।
  6. अगर आप भारी खाना खाने की सोच रहे हैं तो अपने खाने में enzyme शामिल करें।
  7. अगर आपको पहले से ही सूजन की समस्या है तो सौंफ का सेवन करें। आप सौंफ की चाय भी पी सकते है। इसको बनाने के लिए 1 गिलास पानी में एक चम्मच सौंफ डाल दें। इसे 10 से 15 मिनट तकउबलने दें और फिर ठंडा होने के बाद छान कर पी ले।
  8. ज़्यादा परेशानी होने पर बायीं तरफ लेट कर सांस लेने का प्रयास करें।
  9. आप 30 minute पैदल चलने का नुस्खा भी अपना सकते हैं। शरीर के अंगों को मोड़कर उन्हें सुचारू रखें। ऐसा करने से रक्तसंचार (blood circulation) बढ़ता है, दिल तेज़ी से धड़केगा और गैस निकालेगा। यह काफी प्रभावी तरीका है।
  10. 5 मिनट तक पेट से सांस लेने से सूजन से छुटकारा मिलता है।
  11. ऐसी कई मुद्राएं होती हैं जिन्हें करने से अतिरिक्त वायु बाहर निकल जाती है।
  12. खाना खाते समय कुछ भी ठंडा ना पिए।
  13. इस बात पर ध्यान दें कि आपका शरीर कुछ ख़ास उत्पादों के खाने के बाद जैसे गेहूं, आटा, दुग्ध उत्पाद (दूध, पनीर आदि), कैसा चल रहा है। अगर इन खाद्य पदार्थों के खाने से आपके पेट में सूजन होती है तो तुरंत इनका सेवन करना छोड़ दें।
  14. बहुत से लोगों को खाने में तेज़ नमक खाने की आदत होती है, जिससे सूजन बढ़ती है। इसे घटानेके लिए नमक का सेवन कम कर दें। ज्यादा नमक खाने से पाचन रस प्रभावित होते हैं जिसका असर पाचन प्रणाली (digestive) पर पड़ता है।
Image Source

Remedies For Excessive Belching In Hindi

जब डकार लोगों के बीच लेनी पड़े तो यह किसी भी व्यक्ति के लिए शर्मिंदगी का कारण हो सकता है। लोग असुविधाजनक महसूस कर सकते है। यहाँ डकार की समस्या से राहत पाने के अनेक प्राकृतिक तरीके दिए जा रहे है। Read remedies for excessive belching in hindi (Dakar Ka Natural Ilaj).

Remedies For Excessive Belching In Hindi

Remedies For Excessive Belching In Hindi

(Dakar Ka Natural Ilaj)

  • अदरक धोकर इसके छिलके उतारकर कच्चा खाएं। अगर आपको अदरक को कच्चा खाना पसंद नहीं है तो 1 चम्मच अदरक को पानी में 5 मिनट तक उबालें, इसे ठण्डा करके छान कर पीएं।
  • खाना खाने के बाद सौंफ को चबाएं। उत्तम परिणाम के लिए प्राकृतिक सौंफ का प्रयोग करें, सौंफ के स्वाद तथा मिठास के स्थान पर अच्छी गुणवत्ता वाली सौंफ लें।
  • भोजन करने के बाद इलायची चबाएं, इससे अत्यधिक डकारों से राहत मिलती है। इससे मुँह की दुर्गन्ध से राहत मिलती है। मुँह की दुर्गंध खराब पाचन के कारण होती है।
  • एक चम्मच सेब के सिरके और नींबू के रस को एक गिलास पानी में मिलाएं, इस मिश्रण को अच्छे से हिलाएं तथा भोजन के पहले पीएं।
  • पुदीना में मेंथॉल होता है, यह अपच से होने वाली गैस तथा डकारों में राहत प्रदान करता है। कुछ पुदीने की पत्तियों को मसलकर इन्हें पानी में भिगोए तथा दिन में एक बार पीएं।
  • रोज भोजन करने के बाद एक गिलास छाछ में नमक व हींग मिलाकर पीएं। अगर छाछ नहीं है तो आप एक कटोरी दही भी ले सकते है। दही को पानी में मिलाकर इसमें हींग डालें।
Image Source

How To Improve Digestion Naturally In Hindi

पाचन क्रिया में मदद करने के लिए कुछ साधारण घरेलू उपाय है। उनमें से प्रस्तुत हैं, कुछ मुख्य बेहतर पाचन के तरीके। Read how to improve digestion Naturally in hindi (Digestion ko Sudharne ke Tarike).

Digestion ko Sudharne ke Tarike

How To Improve Digestion Naturally In Hindi

(Digestion ko Sudharne ke Tarike)

  • छिली व घिसी हुई अदरक को एक गिलास पानी में उबालकर ठण्डा होने दें। जब गैस की परेशानी हो उससे आराम पाने के लिए हल्का गर्म करके पीएँ।
  • पिपरमेंट (पुदीने की पत्तियों) पुदीने की चाय पीने से पाचन में आराम मिलता है। यह याद रहें कि पुदीने से एसिडिटी हो सकती है, इसलिए हृदय की बीमारी से ग्रस्त लोग इसका प्रयोग ना करें।
  • जिन लोगो को अक्सर कब्ज़ एवं गैस या सुस्ती की शिकायत रहती है, कुछ मामलों में इस वजह से ही सिरदर्द व आलस रहता है। केले व हरी पत्त्तेदार सब्जियाँ यह रेशे के अच्छे स्त्रोत हैं जिससे पाचन से जुड़ी समस्या जैसे कब्ज गैस आदि से छुटकारा दिलाते है।
  • रातभर पानी में अंजीर भिगोकर रखे, अगली सुबह भिगोये हुए अंजीर खा लें व उसका पानी भी पी लें। आप पाएंगें कि बिना किसी कठिनाई से आप मल त्याग कर पा रहे है।
  • सौंफ के दाने खाना खाने के बाद चबाये हैं या फिर एक गिलास पानी में ये दाने उबाल कर पीने से पेट की गड़बड़ी को दूर होती है।
  • खाने को निगलने, का मतलब यह है की बड़ी मात्रा में गैस को निगलना है। यदि हम खाने को चबाकर नहीं खाते तो मुँह से जो सलाइवा रस निकलता है (जिससे भोजन पचता है), वह भोजन को नहीं पचा पाता।
Image Source

Natural Remedies For Gas Problems In Hindi

गैस की प्रोब्लेम्स से छुटकारा पाने के लिए हर समय दवाई लेना जरूरी हो जाता है, घरेलु नुस्खे अपनाकर आप गैस की समस्या से राहत पा सकते है। नीचे कुछ घरेलु सामग्री दी जा रही है जो गैस के दर्द को कम करने में सहायक है। Read About Natural Remedies For Gas Problems In Hindi (Gas Ki Samasiya Ka Upchar).

Gas Ki Samasiya Ka Upchar

Natural Remedies For Gas Problems In Hindi

(Gas Ki Samasiya Ka Upchar)

  • हींग को पानी में मिलाकर इसको गाढ़ा मिश्रण बना ले तथा गोलाकार आकार बनाते हुए नाभि के साथ पास लगाए तथा सूखने दे, इससे कुछ देर में ही गैस कम होने लगती है।
  • एक चम्मच अजवाइन को पानी के साथ ले, इससे गैस के दर्द में बहुत राहत मिलती है।
  • एक कप पानी में ताजा अदरक को उबाले, एंव पी जाए, यह गैस में बहुत उपयोगी है।
  • गरम पानी में निम्बू तथा शहद मिलाकर पीने से गैस की समस्या नहीं रहती है, यह गैस को पेट में जमा नहीं होने देता।
  • जब भी गैस की समस्या हो सौफ को चबाए या गर्म पानी में मिलाकर ले, यह प्राकृतिक औषधि आपको 5-10 मिनट में ही गैस से राहत प्रदान करेगी।
  • एक निम्बू को आधा गिलास पानी में मिलाए तथा उसमें एक चम्मच बेकिंग सोड़ा मिलाकर पी जाए, इससे गैस की समस्या से तुरन्त राहत मिलती है।
Image Source

Food Poisoning in Hindi

फुड पोइज़निंग ख़ान- पान में सही तरह से ध्यान ना देपाने के कारण होती है, यानी खाने वाली चीज़ो में साफ सफाई का ध्यान ना देना। फुड पोइज़निंग की समस्या को हल्के में नही लेना चाहिए। Read about Food Poisoning in Hindi (Food Poisoning Se Bachne Ke Upaye).

Food Poisoning Se Bachne Ke Upaye

Food Poisoning in Hindi

(Food Poisoning Se Bachne Ke Upaye)

फुड पोइज़निंग के लक्षण (Symptoms of Food Poisoning)

फुड पोइज़निंग में रोगी के पेट में दर्द का होना, बुखार का आना, दस्त और उल्टी का होना, चक्कर आना और बदन दर्द का होना आदि लक्षण होते है, जिससे रोगी परेशान हो जात है।

फुड पोइज़निंग से कैसे बचे (Prevention from Food Poisoning)

  • तांबे (कॉपर) के बर्तन में रात को पानी भरकर सुबह सेवन करे।
  • गाजर, लौकी और दाल का अधिक से अधिक सेवन करे।
  • एलोवेरा का जूस पिए।
  • तांबे (कॉपर) के बर्तन में रात को पानी भरकर सुबह सेवन करे।
  • गाजर, लौकी और दाल का अधिक से अधिक सेवन करे।
  • एलोवेरा का जूस पिए।
  • ऑफीस या कही घूमने जाने के लिए गरम और ताज़ा खाना ही पकाये।
  • किसी भी दुकान से खाने की चीज़ खरीदते वक्त expiry date देखना ना भूले।
  • बाजार की किसी भी तरह की तली हुई चीज़ो और खुले में खाने से परहेज ही रखे। जैसे पानीपुरी, टिक्की और चाऊमीन आदि।
  • शौच के बाद हाथो को साबुन से साफ करके धोए।
  • बासी खाना खाने से परहेज ही करे। क्योंकि ज़्यादातर फुड पोइज़निंग बासी खाना खाने की वजह से होती है।

फुड पोइज़निंग के उपचार (Remedies for Food Poisoning)

  • पानी अधिक से अधिक पिए।
  • यदि उल्टी अधिक हो रही हो तो मेंथी के दानो को 1 चम्मच दही में मिलकर सेवन करने से उल्टी बंद हो जाती है।
  • पेट खराब हो और दस्त लग जाए तो ब्लॅक टी का सेवन करे।
  • Whey में पानी और 1 चम्मच मेंथी के दाने डालकर सेवन करे।
  • फुड पोइज़निंग में नींबू और थोड़ा नमक को गुनगुने पानी के साथ पीने से राहत मिलती है।

यदि इन सब उपायो को करने के बाद भी रोगी को राहत ना मिले और पेट में दर्द तेज हो, कमज़ोरी की वजह से चक्कर आ जाए या उल्टी के दौरान खून आने लगे तो तुरंत बिना देर किए रोगी को डॉक्टर के पास ले जाए।

Image Source

Remedies for Diarrhea in Hindi

अगर आपका पेट खराब हो गया है और आप दवाई नहीं खाना चाहते हो तो इन घरेलू उपायों का अपनाकर आप राहत पा सकते हैं। यह उपाय पूरी तरह घरेलू हैं इसलिए इन पर भरोसा करने में कोई नुकसान नहीं है। Read Home Remedies for Diarrhea in Hindi (Dast ya Diarrhea ho Jane Par Kya Kare).

Dast ya Diarrhea ho Jane Par Kya Kare

Remedies for Diarrhea in Hindi

(Dast ya Diarrhea ho Jane Par Kya Kare)

  • दही, भात, को मिश्री के साथ खाने से दस्त में आराम आते।

 

  • दस्त हो जाने पर खाना खाते ही न सोयें, थोड़ी देर टहले। अपनी दाहिनी बाज़ू पर सोयें, इससे पेट के पदार्थ मुंह तक नहीं आयेंगे।

 

  • काली मिर्च के साथ 1-1 चम्मच अदरक, नीबूं का रस लेने से भी दस्त में आराम मिलेगा।

 

  • सेब का मुरब्बा और पके केले का सेवन करने से दस्त में तुरंत आराम मिलेगा।

 

  • बराबर मात्र में सौंफ और जीरे लें कर भुन कर पीस लें। इसको दिन में 3 बार आधा चम्मच पानी के साथ ले लें।

 

  • अदरक के टुकड़ो को चूसने से या अदरक की चाय पीने से पेट की मरोड़ शांत हो जाती है।

 

  • जामुन की पत्तियों को पीस कर उसमें सेंधा नमक मिला ले। दिन में दो बार 1/4 चम्मच लेने से दस्त रुक जाते है।

 

  • दस्त के साथ शरीर से निकले खनिज व तरल पदार्थ की कमी पूरी करने के लिए R.S का घोल पियें।

 

  • दस्त रोकने के लिए उबले हुए चावल के पानी में हल्का नमक और काली मिर्च डाल कर उसका सेवन करें।

 

  • दूध या उससे बनी चीजों का सेवन बिलकुल भी ना करें।
Image Source

Tips for Healthy Digestion in Hindi

Digestive system हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है। यह भोजन तो पचाता ही है साथ ही यह शरीर को फिट बनाये रखता है। पेट से संबंधित सभी बीमारियों से बचने के लिए digestive system का सही रहना बहुत जरूरी है। Read Tips for Healthy Digestion in Hindi (Healthy Digestion ke Liye Tips).

Tips for Healthy Digestion in Hindi
अगर हमें लंबे समय तक अपच, पेट में गैस, और कब्ज की शिकायत रहती है तो हमारे शरीर की पाचन शक्ति में खराबी होती है। इसको सुधारने के लिए हमें फिट रहना बहुत जरुरी है। अगर आपको constipation की शिकायत है तो आप कितना ही पौष्टिक आहार लें लें, इसका फायदा शरीर को नहीं मिलेगा। आइए जानते है पुरुषों की पाचन शक्ति बढ़ाने के कुछ टिप्स।

Tips for Healthy Digestion in Hindi

(Healthy Digestion ke Liye Tips)

  • जल्दबाजी से भोजन करने से भोजन आसानी से पचता नहीं है। आमतौरपर हम लोग खाने के टुकड़े को 8 से 10 बार ही चबाते हैं परन्तु खाने को कम से कम 30-35 बार चबाना चाहिए।
  • फाइबर से भरपूर आहार जैसे सब्जियां, फल, फलियां और साबुत अनाज digestion को बेहतर बनाते है। यह पचने में आसान और constipation के लिए फायदेमंद है। उच्च फाइबर आहार पाचन संबंधी समस्याएं जैसे diverticulitis, hemorrhoids और irritable bowls syndrome को कम करता है।
  • फैट से युक्त खाद्य पदार्थ पाचन प्रक्रिया को धीमा कर देती है और constipation और दूसरी पाचन समस्याओं के खतरे को बढ़ाते हैं। इसलिए फैट के आवश्यक स्तर को बनाये रखना जरुरी है। कोशिश करे की फैट और फाइबर युक्त खादए पदार्थ का सेवन हो, ताकी digestive system को सही तरीके से संचालित करना आसान हो।
  • फाइबर से भरपूर आहार जैसे सब्जियां, फल, फलियां और साबुत अनाज digestion को बेहतर बनाते है। यह पचने में आसान और constipation के लिए फायदेमंद है। उच्च फाइबर आहार पाचन संबंधी समस्याएं जैसे diverticulitis, hemorrhoids और irritable bowls syndrome को कम करता है।
  • पानी शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है इसलिए यह शरीर के लिए आवश्यक तत्व है। सामान्य पानी की तुलना में गरम पानी पाचन शक्ति मजबूत बनाता है। इसलिए हल्का गर्म पानी पीजिए। हमें रोज 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए। नींबू पानी पीने से पाचनशक्ति मजबूत होती है।
  • Digestive system को दुरुस्त रखने के लिए नियमित समय पर खाना खाए। रोज़ एक ही समय के आसपास नाश्ता, दोपहर का खाना, रात का खाना खाए। समय पर खाना खाने से digestive system पर अच्छा असर पड़ता है और एसिड नहीं बनता है।
  • Digestion की समस्या के लिए कम फैट वाला दही खाए। यह नींद में अनियमितता, असंतुलित आहार और तनाव को कम करता है। इसके अलावा यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है।
  • व्यायाम चयापचय को गति और digestive system को भी दुरुस्त रखता है। इसलिए रोज कम 30 मिनट तक जरूर व्यायाम करे। Digestive system को दुरुस्त करने के लिए तेज चले, दौड़े, साइकिल चलाए और तैरे।
  • अत्यधिक कैफीन, धूम्रपान और शराब पीने से digestive system के काम में बाधा गड़बड़ी हो जाती है। इनके कारण पेट के अल्सर और हार्टबर्न समस्या हो जाती है। इसलिए इनसे दूर ही रहे।
  • पेट का व्यायाम और मसाज भी digestive system को दुरुस्त रखता हैं। इसे नियमित तोर से करे और पाचन तंत्र को लंबे समय तक दुरुस्त रखे। कुछ तेलों के साथ पेट की मालिश करें।
  • विटामिन C के सेवन से भी पाचन शक्ति मजबूत होती है। इसलिए digestive system को दुरुस्त बनाने के लिए विटामिन C युक्त आहार जैसे – स्ट्रॉबेरी, टमाटर, ब्रोकोली, किवी का सेवन करें।
  • तनाव और चिंता के कारण भी digestive system का कार्य बहुत धीमा पड़ जाता है। इसलिए तनाव को दूर करने के लिए योग और ध्यान का सहारा ले।

Gastric Problem in Hindi

पेट में हवा भरने को आध्मान, गेस बनना, गेस भरना, वायु इकठी होना कहते है। उदर वायु एक एसी स्थिति है जिसमें पेट में वायु इकठ्ठी होती है। पेट में वायु, कब्ज के कारण इकठ्ठी होती है। कभी कभी ह्रदय में फड फडाहट होने लगती है और लोग इसे ह्रदय रोग समझ लेते है, यह पेट की खराबी होने के कारण होता है। स्वस्थ रहने के लिए सब्जी में मसाले(हल्दी, नमक, धनिया, मिर्च आदि) होने जरूरी है। हींग को भुन कर सेवन करने से वायु प्रक्रति, गर्म मसाले कफ प्रकृति और जीरा पित प्रक्रति को ठीक रखते है। रूखा भोजन के कारण पेट में वायु की समस्या बढ़ती है। Read Gastric Problem in Hindi (Gas ki Samasya ka Samadhan)

Gas Problem Remedies in HindiGastric Problem in Hindi

गैस की समस्या के लिए घरेलू नुस्खे 

Gas ki Samasya ka Samadhan

1. काली मिर्च (Black Pepper for Gas Problem)

दस काली मिर्च पीस कर गर्म पानी में नीबू निचोड़ कर सुबह-शाम लेने से गेस की समस्या दूर हो जाएगी।

2. जीरा (Cumin for Gas Problem)

सिके हुए जीरे को पीस कर एक चम्मच शहद में मिलाकर रोज खाना खाने के बाद चाटें।

3. धनिया (Coriander for Gas Problem)

एक गिलास पानी में 2 चम्मच सूखा धनिया उबाल कर छान कर उस पानी को दिन में तीन बार पिए।

4. सहजन (Drumstick for Gas Problem)

पेट में वायु-संचय में सहज़न (Drumstick) की सब्जी लाभदायक होती है।

5. दालचीनी (Cinnamon for Gas Problem)

दालचीनी गेस के कारण हो रहे पेट दर्द को नष्ट करती है। इसे अधिक मात्रा में न ले।

6. साँस (Deep Breath for Gas Problem)

भोजन के बाद सीधे लेटकर लम्बी साँस लें, फिर दाहिनी ओर लेटकर लम्बी साँस लें और अन्त में बायीं ओर लेटकर लम्बी साँस लें। इससे भोजन सही जगह पहुंच जाएगा औऱ गैस मुँह से डकार के रूप में या गुदा से वायु के रूप में उसी समय निकल जाएगी।

7. हींग (Asafoetida for Gas Problem)

गर्म पानी में हीँग को घोलकर नाभि के आसपास लगाए। एक gm हींग भूनकर खाने के साथ ले। यदि गेस भरने से पेट-दर्द हो तो आधा liter पानी में 2 gm हिंग उबालें। एक चौथाई पानी रहने पर गर्म-गर्म पीए।

8. लोंग (Clove for Gas Problem)

उबलते हुए आधा कप पानी में पीसी हुई 5 लौग डाले, फिर कुछ ठण्डा होने के बाद दिन में 3 बार पिए। गैस निकल जायेगी।

9. अजवाइन (Celery for Gas Problem)

डेढ़ ग्राम काला नमक 6 gm पिसी अजवाइन में मिलाकर भोजन के बाद गरम पानी के साथ लेने से अफारा मीटता है। यह पेट की वायु को बाहर निकालती है।

10. पुदीना (Pudina for Gas Problem)

रोज सुबह 1 गिलास पानी में 25 gm पुदीने का रस, 31 gm शहद मिलाकर पीने से गैस की बीमारी में लाभ मिलता है।

11. बेंगन (Brinjal for Gas Problem)

पानी पीने के बाद पेट इस प्रकार फूलता हो जैसे फुटबाल में हवा भर जाती है तो ताजा लम्बे बेंगन की सब्जी खाए। इससे गैस की बीमारी भाग जायेगी।

12. दूध (Milk for Gas Problem)

दूध उबालते समय उसमें 1 पीपल का पत्ता डालकर दूध पीने से वायु नहीं बनती।

13. अदरक (Ginger for Gas Problem)

4 gm अदरक बारीक काटकर थोडा-सा नमक लगाकर दिन में एक बार 10 दिन भोजन से पहले खायें। इससे पेट की गेस दूर होगी।

14. मेथी (Fenugreek for Gas Problem)

मेथी शाक गैस में लाभ करता है। अर्जुन की छाल, दाना मेथी, केर, आँवला को समान मात्रा में पिस लें। चमच ठंडे पानी रोज सुबह 1 चम्मच खाली पेट फंकी लेने से पेट का भारीपन, पेट की गेस ठीक होता है।

Constipation in Pregnancy in Hindi

क्या आप गर्भवती है? कब्ज से पीडि़त है? हाँ, तो आप अकेली नहीं है। कब्ज, गर्भावस्था के दौरान होने वाली सामान्य बात है लेकिन बहुत सी महिलाएं इन अंतरंग समस्याओं के बारें में बात करने से शरमाती है। गर्भावस्था, स्तनपान और बच्चों के पोषण से जुड़े जाने-माने सलाहकार बताते है कि क्यों गर्भवती महिलाएं कब्ज से पीडि़त होती है और वे इसके लिए क्या कर सकती है। Read Constipation in Pregnancy in Hindi (Pregnancy Mein Constipation).

Constipation in Pregnancy in Hindi

Constipation in Pregnancy in Hindi

(Pregnancy Mein Constipation)

गर्भावस्था के दौरान कब्ज दो कारणों से होती है (Causes of Constipation on Pregnancy)

  • हार्मोनों में बदलाव जिससे पाचन की सामान्य प्रक्रिया नहीं हो पाती है।
  • ज्यादातर गर्भवती महिलाएं आयरनयुक्त आहार पूरक लेती है जो कब्ज बढ़ाते है। कुछ मामलों में गंभीर कब्ज भी हो सकती है और इसके परिणामस्वरूप दर्दनाक गुदा फिशर हो सकता है। इसलिए इसका तुरंत उपचार करना आवश्यक है।

गर्भावस्था में Constipation के लिए घरेलु उपचार (Remedies for Constipation in Pregnancy)

यदि आप गर्भवती है और कब्ज से पीडि़त है तो यहां कुछ घरेलू औषधियाँ है जिनका आप आराम पाने के लिए उपयोग कर सकती हैः

  • बहुत सारे फल, सब्जियाँ और अपरिष्कृत अनाज अपने आहार में शामिल करें। यह आहार में रेशों की मात्रा बढ़ाएगा जिससे कब्ज दूर करने में मदद मिलेगी।
  • बहुत सारे तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • स्वस्थ और संतुलित आहार का सेवन करें।
  • आप अपने चिकित्सक को आरयन आहार पूरकों को बदलने के लिए कह सकते है क्योंकि कुछ ब्राण्ड अन्य ब्राण्ड कि तुलना में आपको बढि़या सूट कर सकती है।
  • रोज सुबह भीगी हुई किशमिश खाएं। ये रेशों की मात्रा बढ़ाती है और बढि़या पेट साफ करने वाली दवा की तरह कार्य करती है।
  • कितनी भी बढि़या पेट साफ करने की दवा हो चिकित्सक की देखरेख के बिना नहीं लेनी चाहिए।

Gas Problem Treatment in Hindi

आजकल प्राय: बच्चो,युवा वर्ग एवं  60 वर्ष से अधिक के उम्र  के लोगो मे पेट मे अम्ल की अधिकता के कारण गैस की समस्या देखी जा रही है। यदि पेट की भीतरी परत अम्ल बना रही हो और वो पेट की सतह को छू रही हो तो इसके द्वारा पीड़ित व्यक्ति को असहनीय दर्द एवं पीड़ा होती है। Read Gas Problem Treatment in Hindi (Gas ki Samasya ka Upchar).

Gas Problem Treatment in Hindi

Gas Problem Treatment in Hindi

(Gas ki Samasya ka Upchar)

  1. पानी के साथ मेथी के बीजो को मिलाकर काढ़ा बनाकर पिए। इससे गॅस की समस्या से जल्द ही निजाद पाया जा सकता है।

 

  1. हल्दी भी भोजन के पाचन में मदद करती है। इससे पेट में गॅस की समस्या समाप्त हो जाती है। इसलिए इसका प्रयोग भी लाभकारी होता है।

 

  1. रोजाना सुबह गर्म पानी में नींबू के रस को मिलाकर पीने से पाचन तंत्र सही होता है और गॅस की समस्या भी दूर होती है।

 

  1. छाछ में lactic acid पाया जाता है जो की पेट के गॅस की समस्या को दूर करने में मदद करता है। भोजन करने के बाद रोजाना इसे पीने से पेट में गॅस की समस्या नही होती है।

 

  1. पेट में गॅस की समस्या होने का एक कारण, शरीर में पानी की कमी होना भी होता है। इसलिए दिन में 8 ग्लास पानी ज़रूर पीना चाहिए। यदि पेट में गॅस की समस्या हो तो ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीना चाहिए।

 

  1. जीरा पाचन तंत्र को सही करता है, जिससे भोजन का पाचन सही तरह से हो सके। रोजाना एक ग्लास पानी में जीरा पाउडर मिलाकर पीने से पेट के गॅस की समस्या दूर हो जाती है।
Load More ...