High Blood Pressure

Symptoms of High Blood Pressure in hindi

यदि आप अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) के साथ-साथ उच्च रक्तचाप (high blood pressure) के भी मरीज हैं और आप एक साथ दोनों बीमारियों को दूर करना चाहते हैं तो यह दवा आपके लिए बहुत मददगार साबित होगी। इसमें पोटेशि‍यम (potassium) प्रचुर मात्रा में होने के साथ ही सोडि‍यम (sodium) की मात्रा काफी कम है, जो उच्च रक्तचाप (high blood pressure) के मरीजों के लिए काफी लाभदायक है। Read High Blood Pressure Kam karne ke Upay Tarike

Natural Remedy for BP in Hindi

 BP treatment in Hindi 

(BP ke Liye Gharelu Upchar)

इतना ही नहीं यह शरीर से हानिकारक तत्वों को बाहर निकालकर आंतरिक अंगों की सफाई और कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) के स्तर को नियंत्रित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस दवा को घर पर बड़ी आसानी से बना सकते हैं। आइए जानते है की क्या है यह दवा और इसके अन्य फायदे।

ब्लड प्रेशर के लिए घरेलु दावा बनाने के लिए सामग्री (Ingredients to Make Natural Remedy for BP)

इसे बनाने के लिए आपको 1 नींबू, अजवाइन के पौधे की जड़ और पानी की जरूरत होगी।

ब्लड प्रेशर के लिए घरेलु दावा बनाने की विधि‍ (How to Make Natural Remedy for BP)

इसे बनाने के लिए पहले नींबू को धोकर slice के रूप में काट लें और अजवाइन की जड़ को पीस लें।

अब पिसे हुए इस paste को 1 डेसीलीटर पानी में मिलाएं और इसमें नींबू के slice डाल दें। लगभग 20 मिनट के लिए इस मिश्रण को धीमी आंच पर उबलने दें।

20 मिनट के बाद इस मिश्रण को आंच से उतार लें और कम से कम 6 घंटे या फिर रातभर के लिए ठंडा होने के लिए छोड़ दें और फिर सुबह खाली पेट इसे पिएं।

आप चाहें तो इस मिश्रण को दिन में 3 बार भी पी सकते हैं।

आप चाहें तो लगातार दो महीने तक इस जूस का सेवन करने के बाद जांच करा सकते हैं।

यह जूस आपके लिए बेशक बहुत फायदेमंद होगा।

Image Source

सेंधा नमक के फायदे

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण- High Blood Pressure Ke lakshan

हाई ब्लड प्रेशर के लिए एरोबिक्स

हाई ब्लड प्रेशर के लिए फायदेमंद व्यायाम

Aerobics for High Blood Pressure in Hindi

बहुत से लोग रोज-रोज एक्सरसाइज करके ऊब जाते है तथा इसे बीच में ही छोड़ देते है। अपने ब्लड प्रेशर को कम रखने के लिए आपको 1-3 महीने तक एक्सरसाइज की आवश्यकता है ताकि अपने शरीर पर उचित दबाव बना रह सके। जितनी नियमित एक्सरसाइज आप करेगे उतना ही लाभ आपको मिलेगा। Read about Aerobics for High Blood Pressure in Hindi (High Blood Pressure Ke Liye Aerobics)

High Blood Pressure Ke Liye Aerobics

Aerobics for High Blood Pressure in Hindi

(High Blood Pressure Ke Liye Aerobics)

  • एरोबिक्स एक्सरसाइज (Aerobics Excercise) हृदय और फेफड़ो को मजबूती प्रदान करती है तथा शरीर में ऑक्सीजन के उपयोग की क्षमता बढ़ाती है।
  • एरोबिक्स एक्सरसाइज (Aerobics Excercise) हृदय के लिए बहुत लाभदायक है। यह साँस लेने की प्रक्रिया को ठीक करके हृदय रोग दूर तथा ब्लड प्रेशर को कम करती है।
  • 30 मिनट की एरोबिक्स एक्सरसाइज (Aerobics Excercise) हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने का अच्छा तरीका है। कोई भी शारीरिक क्रीड़ा जो आपके हृदय तथा सांसो की दर में वृद्धि लाती है, वह एरोबिक्स एक्सरसाइज (Aerobics Excercise) की श्रेणी में आती है जैसे घरेलु कार्य जैसे
    • बगीचे की सफाई
    • पत्तियाँ तोड़ना
    • फर्श को साफ करना
    • सीढि़या चढ़ना
    • चलना
    • जॉगिंग
    • साइकल चलाना
    • तैरना
  • एक्सरसाइज(Excercise) करते समय चोट न लगे इसलिए पहले इसे धीरे-धीरे शुरू करे के अपने आप को तैयार करे। वर्क आउट करने के बाद शांत रहे तथा अपनी वर्क आउट क्षमता बढ़ाने की कोशिश करे।

Exercise for Blood Pressure in Hindi

एक्सरसाइज हमारे शरीर में ब्लड प्रेशर की समस्या को नियंत्रित कर सकती है। एक्सरसाइज के अनेक प्रकार होते है। आइये जानते है ऐसी एक्सरसाइज के बारे में जो ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल करते है। Read about Exercise for Blood Pressure in Hindi (High Blood Pressure Ke Liye Exercise Tips).

High Blood Pressure Ke Liye Exercise Tips

Exercise for Blood Pressure in Hindi

(High Blood Pressure Ke Liye Exercise Tips)

  • एक्टिविटी चुन ले जिसमें आपको आनंद आए, इसे एक्सरसाइज का रूप दे ताकि आप उस एक्टिविटी को आंनदपूर्वक कर पाए।
  • हर रोज एक्सरसाइज को एक ही समय पर करने की योजना बनाए, जैसे सुबह के वक्त जब आप अधिक एनर्जी का अनुभव करते है।
  • अलग-अलग प्रकार की एक्सरसाइज करे ताकि आप ऊब न जाएं।
  • यदि आप नियमित एक्सरसाइज करेगे तो शीघ्र ही यह आपकी जीवन चर्या का हिस्सा बन जाएंगी।
  • आप एक्सरसाइज करने के लिए किसी साथी का चयन भी कर सकते है।
  • बिमारियों से बचने के लिए पोष्टिक आहार ले।

 

अत्यधिक एक्सराइज और वर्कआऊट के दुष प्रभाव (Bad Effects of Excessive Exercise)

अत्यधिक एक्सराइज और वर्कआऊट से बचे यह असुरक्षित हो सकता है। यदि आप एक्सरसाइज करते समय अत्यधिक थकान का अनुभव करे तो इसे तुरन्त रोक दे तथा आराम करे। लंबे समय तक एक्सरसाइज करने के बाद बहुत से लोगों में निम्न लक्षण उबर कर सामने आते हैं।

  • सीने में दर्द
  • मूर्छित होना और चक्कर आना
  • बाहों तथा जबड़ों में दर्द
  • साँस लेने में तकलीफ
  • अनियमित हृदय की धड़कने
  • अत्यधिक तनाव

अपनी प्रगति को नियमित जाँचे, अपने वर्कआउट और संतुलित आहार का चार्ट बना ले। इससे आपकी संकल्पशक्ति तथा शारीरिक क्षमता में वृद्धि होगी। यदि आपने उपरोक्त टिप्स का सावधानीपूर्वक पालन किया है तो, आप आपके अंदर आएं परिवर्तनों का निरिक्षण कर सकते है।

DASH Diet Plan for BP Patients in Hindi

हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए डॉक्टर हमेशा उचित आहार योजना अपनाने की सलाह देते है। किन्तु बहुत से लोग अपनी संकल्प शक्ति की कमी के कारण आहार योजना का पूरा पालन नहीं कर पाते, जिसके परिणाम स्वरूप गंभीर स्वास्थ्य संबंधित बिमारिया हो जाती है। हाई ब्लड प्रेशर को काबू में करने के लिए आहार समस्या महत्वपूर्ण कारक है। रिसर्च में पाया गया है कि, नमक की मात्रा ब्लड प्रेशर को बढ़ाती है। नमक की कम मात्रा ब्लड प्रेशर में महत्वपूर्ण परिवर्तन लाती है। फलों में पाये जाने वाले पोटेशियम, मेग्नेशियम तथा फाइबर भी ब्लड प्रेशर पर प्रभाव डालता है। Read DASH Diet Plan for BP Patients in Hindi (High Blood Pressure Ke Liye DASH Diet).

DashDiet

DASH Diet Plan for BP Patients in Hindi

(High Blood Pressure Ke Liye DASH Diet)

ब्लड प्रेशर के पैशन्ट्स अपनाए DASH डाइट प्लान

  • DASH DIET हाई ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए विभिन्न खाद्य पदार्थो पर किया जाने वाला अध्ययन है। इसमें यह पाया गया कि जिन व्यक्तियों ने DASH DIET का पालन किया उनका ब्लड प्रेशर कुछ ही सप्ताह में कम तथा सामान्य हो गया।
  • DASH DIET में नमक की मात्रा कम होती है। इसमें एक दिन में 1500 मिलीग्राम नमक होता है। इसका मतलब लगभग 2 या 3 चम्मच नमक कम होना।
  • फल, सब्जियाँ, अनाज, मछली, कम फैट वाले डेयरी उत्पाद फलियाँ, सूखे मेवें इनमें भरपूर पोषण जैसे- पोटेशियम, मेग्नेशियम, केल्शियम, फाइबर और प्रोटीन होता है।
  • फल तथा सब्जियों में पोटेशियम की अधिक मात्रा होती है इन्हें अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। शकरंकद, टमाटर, संतरे का जूस, आलु, केला, मटर तथा किशमिश को भी अपने आहार में शामिल करना चाहिए।
  • नमक का कम उपयोग करे। नमक को निम्बू, लहसुन मिर्च तथा अन्य मसालो तथा जड़ी-बूटियों के साथ प्रयोग में ले।
  • ऐल्कहॉल यदि लेना है तो कम मात्रा में ले।

High Blood Pressure Symptoms in Hindi

हृदय की प्रत्येक धड़कन के बाद आर्टरीज की दीवारो पर रक्त का दबाव पड़ता है यही ब्लड प्रेशर कहलाता है। जब यह दबाव बहुत ज्यादा हो जाता है तो यह साइसटोलिक प्रेशर कहलाता है और जब प्रेशर कम होता है तो यह डायस्टोलिक प्रेशर कहलाता है। गणना में साइस टोलिक ब्लड प्रेशर 120 mm HG तथा डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर 80 mm HG सामान्य माना जाता है। यदि गणना (Reading) 140/90 mm Hg पहुंच जाती है तब हाई ब्लड प्रेशर की अवस्था होती है। Read More about High Blood Pressure Symptoms in Hindi (High Blood Pressure Ke Sanket).

Hypertensive crisis

High Blood Pressure Symptoms in Hindi

(High Blood Pressure Ke Sanket)

हाई ब्लड प्रेशर के ध्यान देने योग्य लक्षण नहीं होने के कारण इसे बीमारी या सामान्य समस्या मान लिया जाता है। यहाँ कुछ सामान्ये लक्षण दिए जा रहे है:

  • मूत्र में खुन आना
  • हृदय की धड़कनों में अनियमितता
  • साँस लेने में तकलीफ
  • सीने में दर्द
  • तनाव तथा असंमजस महत्त्वपूर्ण कल्पना शक्ति का अभाव
  • सिरदर्द
  • हाई ब्लड प्रेशर के ये लक्षण इस बात की ओर संकेत करते है कि व्यक्ति जल्दी से जल्दी अपनी मेडिकल जाँच करवाए क्योंकि देर करने से हार्ट अटैक तथा लकवा की संभावनाएँ प्रबल हो जाती है।
  • हाई ब्लड प्रेशर का सही इलाज नही करवाया जाएं तो यह तनाव के साथ-साथ पूरी शरीर की कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है।
  • हाई ब्लड प्रेशर के कारण ब्रेन स्ट्रोक की संभावना बढ़ जाती है, यह अवस्था अत्यधिक घातक है।
  • कभी-कभी अंधापन भी हो सकता है इसके परिणामस्वरूप कल्पनाशीलता की कमी भी हो सकती है।

How to Adopt Dash Diet Plan in Hindi

DASH DIET हाई ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए विभिन्न खाद्य पदार्थो पर किया जाने वाला अध्ययन है। इसमें यह पाया गया कि जिन व्यक्तियों ने DASH DIET का पालन किया उनका ब्लड प्रेशर कुछ ही सप्ताह में कम तथा सामान्य हो गया। How to Adopt Dash Diet Plan in Hindi

Dash Diet Plan Ko Kaise Apnaye

How to Adopt Dash Diet Plan in Hindi

(Dash Diet Plan Ko Kaise Apnaye)

  • अनाज -रोज 7-8 बार ले
    मात्रा -ब्रेड का एक पीस, 1/2 कप चावल या पास्ता।
  • सब्जियाँ – रोज 4-5 बार ले।
    मात्रा -एक कप कच्ची हरे पत्तेदार सब्जियाँ, 1/2 कप पकी सब्जियाँ।
  • फल -रोज 4-5 बार ले।
    मात्रा -एक मध्यम आकार का फल, 1/2 कप ताजा फल, 1/4 कप सुखे मेवे, 6 ग्राम फलो का रस।
  • कम फैट और बिना फैट वाले डेयरी उत्पाद -रोज 2-3 बार
    मात्रा -8 ग्राम दूध, एक कप योगहर्ट, 1.5 ग्राम मक्खन।
  • माँस, चिकन और मछली – रोज 2 या इससे कम
    मात्रा – 3 पाउंड पका मांस चिकन और मछली
  • सुखे मेवे बीज तथा फलियाँ – सप्ताह में 4-5 बार
    मात्रा -1/3 कप सूखे मेवे, 1/2 कप पके हुए फलियाँ और बींज
  • मिठाई -सप्ताह में पांच बार।
    मात्रा -एक चम्मच शक्कर और जेली जेम।
  • अपने भोजन में पोटेशियम, मेग्नेशियम तथा फाइबर की मात्रा बढ़ाने के लिए निम्न भोजन अपने आहर में शामिल करे। सेब हरी फलियाँ, अँगूर, खरबूजा, अन्नानास, पालक, योगहर्ट, केला, गाजर, आम, पिच, किशमिश, शकंरकद तथा टुर्ना (समुद्री मछली) खुबानी, ब्राकोली, खजुर, हरे मटर, संतरा, आलु, स्ट्रॉबेरी, टमाटर।

यह प्रत्यक्ष पाया गया कि DASH DIET के अन्तर्गत आने वाले इन फलों तथा सब्जियों को अपने आहार में शामिल करने से ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है।

एक दम सही परिणाम प्राप्त करने के लिए इन्हें प्रत्यक्ष अपना कर देखे। हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपका रक्तचाप चाय नियंत्रण करने में मदद करेगी।

Remedies for High Blood Pressure in Hindi

सर्पगंधा एक छोटा चमकीला, सदाबहार, बहुवर्षीय झाड़ीनुमा पौधा है जिसकी जड़े मृदा में गहराई तक जाती है। जड़े टेढ़ी-मेढ़ी तथा करीब 18-20 इंच लम्बी होती है। इसके पुष्प आमतौर से शीत ऋतु के नवंबर-दिसंबर माह में प्रकट होते हैं। फल ड्रयूप प्रकार के तथा छोटे मांसल एक या दो-दो में जुड़े हुए होते हैं। हरे फल पकने पर बैंगनी काले रंग के हो जाते हैं। ज़माने से वैद्यों द्वारा सर्पगंधा का इस्तेमाल इनसोम्निया, स्नेक-बाईट और इंसैनिटी के लिए किया जा रहा है। सर्पगंधा वेस्टर्न मेडिसिन द्वारा मान्य पहली आयुर्वेदिक दवाई है। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी सर्पगंधा काफी उपयोगी साबित हुआ है। Read Remedies for High Blood Pressure in Hindi (Blood Pressure ke Liye Sarpagandha.

Sarpagandha for Blood Pressure in Hindi

Remedies for High Blood Pressure in Hindi

(Sarpagandha for Blood Pressure in Hindi )

ब्लड प्रेशर कम करती है (Sargandha Reduces Blood Pressure)

सर्पगंधा की जड़ों में पाया जाने वाला रेसरपाइन नामक अल्कलोईड ब्लड प्रेशर को कम करता है। फार्माकोलोजिस्ट ने इस अल्कलोईड को जड़ों से एक्सट्रेक्ट किया और हाइपरटेंशन के लिए हर्बल ट्रीटमेंट तैयार किया।

इसे कैसे लेना चाहिए? (How to Have Spargandha)

सर्पगंधा पाउडर और टेबलेट दोनों ही रूपों में मिलती है। आपकी उम्र और आपकी सेहत के हिसाब से सर्पगंधा का डोज़ लिया जाता है। क्लिनिकल स्टडीज के हिसाब से 120 मिलीग्राम और 600-900 मिलिग्राम के बीच डोज़ लेना सेफ होगा। ओवरडोज़ खतरनाक हो सकता है।

सर्पगंधा के साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Spargandha)

  • चक्कर आना
  • भूख ना लगना
  • दस्तें
  • जी मिचलाना
  • उल्टी

सीरियस साइड इफेक्ट्स (Serious Side Effects of Spargandha)

  • एंठन
  • कोमा
  • इम्पोटेंस
  • मेंटल डिप्रेशन
  • हार्ट बीट कम होना

High BP Exercise Tips in Hindi

ब्लड प्रेशर एक गंभीर समस्या है। यह शरीर में छिपा एक घातक शत्रु है। अनियमित खान पान, गैस, अनींद्रा, नमक के अधिक सेवन से हाई ब्लड प्रेशर होना स्वाभाविक है। हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) से परेशान लोगों को नियमित एक्सरसाइज (Exercise) करनी चाहिए। Read High BP Exercise Tips in Hindi (High Blood Pressure Ke Liye Exercise Tips).

एक्सरसाइज के अनेक प्रकार है। यह हमारे शरीर में ब्लड प्रेशर की समस्या को नियंत्रित कर सकती है। आइए जानते है कुछ एक्सरसाइज (exercise) जो ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) को कंट्रोल करती है।

High Blood Pressure Ke Liye Exercise Tips in Hindi

High BP Exercise Tips in Hindi

(High Blood Pressure Ke Liye Exercise Tips)

1. एक्टिविटी चुन ले जिसमें आपको आनंद आए, इसे एक्सरसाइज का रूप दे ताकि आप उस एक्टिविटी को आंनदपूर्वक कर पाए।

2. हर रोज एक्सरसाइज को एक ही समय पर करने की योजना बनाए, जैसे सुबह के वक्त जब आप अधिक एनर्जी का अनुभव करते है।

3. अलग-अलग प्रकार की एक्सरसाइज करे ताकि आप ऊब न जाएं।

4. यदि आप नियमित एक्सरसाइज करेगे तो शीघ्र ही यह आपकी जीवन चर्या का हिस्सा बन जाएंगी।

5. आप एक्सरसाइज करने के लिए किसी साथी का चयन भी कर सकते है।

6. बिमारियों से बचने के लिए पोष्टिक आहार ले।

 

अत्यधिक एक्सराइज और वर्कआऊट के दुष प्रभाव (Side Effects of Excessive Exercise and Workout)

अत्यधिक एक्सराइज और वर्कआऊट से बचे यह असुरक्षित हो सकता है। यदि आप एक्सरसाइज करते समय अत्यधिक थकान का अनुभव करे तो इसे तुरन्त रोक दे तथा आराम करे। लंबे समय तक एक्सरसाइज करने के बाद बहुत से लोगों में निम्न लक्षण उबर कर सामने आते हैं।

1. सीने में दर्द

2. मूर्छित होना और चक्कर आना

3. बाहों तथा जबड़ों में दर्द

4. साँस लेने में तकलीफ

5. अनियमित हृदय की धड़कने

6. अत्यधिक तनाव

अपनी प्रगति को नियमित जाँचे, अपने वर्कआउट और संतुलित आहार का चार्ट बना ले। इससे आपकी संकल्पशक्ति तथा शारीरिक क्षमता में वृद्धि होगी। यदि आपने उपरोक्त टिप्स का सावधानीपूर्वक पालन किया है तो, आप आपके अंदर आएं परिवर्तनों का निरिक्षण कर सकते है।

Aerobics for Blood Pressure in Hindi

दिनभर के काम-काज और तनावपूर्ण जीवनशैली के चलते लोगो को तनाव और कई प्रकार की परेशानियो का सामना करना पड़ता है। तनाव के चलते शरीर को कई बीमारिया घेर लेती है उनमे से एक है हाइ ब्लड प्रेशर। यदि आप रोज़ 20 मिनट तक व्यायाम करते हैं तो आपका heart-attack होने का खतरा एक-तिहाई तक घाट जाता है। Walk पर जाना, aerobics या dance classes करना फायदेमंद होगा। यहा हम आपको हाइ ब्लड प्रेशर के पेशेंट्स के लिए एरोबिक्स से मिलने वेल फयडो के बारे मे बता रहे है। Read Aerobics for Blood Pressure in Hindi (Aerobics Blood Pressure Ko Control Kare).

Blood Pressure Control Karne Ke Liye Aerobics in Hindi

Aerobics for Blood Pressure in Hindi

(Aerobics Blood Pressure Ko Control Kare)

  • एरोबिक्स एक्सरसाइज हृदय और फेफड़ो को मजबूती प्रदान करती है तथा शरीर में ऑक्सीजन के उपयोग की क्षमता बढ़ाती है।
  • ऐरोबिक्स एक्सरसाइज हृदय के लिए बहुत लाभदायक है। यह साँस लेने की प्रक्रिया को ठीक करके हृदय रोग दूर तथा ब्लड प्रेशर को कम करती है।
  • एक्सरसाइज करते समय चोट न लगे इसलिए पहले इसे धीरे-धीरे शुरू करे के अपने आप को तैयार करे। वर्क आउट करने के बाद शांत रहे तथा अपनी वर्क आउट क्षमता बढ़ाने की कोशिश करे।
  • 30 मिनट की एरोबिक्स एक्सरसाइज हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने का अच्छा तरीका है। कोई भी शारीरिक क्रीड़ा जो आपके हृदय तथा सांसो की दर में वृद्धि लाती है, वह एरोबिक्स एक्सरसाइज की श्रेणी में आती है जैसे घरेलु कार्य जैसे
  1. बगीचे की सफाई
  2. पत्तियाँ तोड़ना
  3. फर्श को साफ करना
  4. सीढि़या चढ़ना
  5. चलना
  6. जॉगिंग
  7. साइकल चलाना
  8. तैरना

Dash Diet Plan to Control High BP in Hindi

DASH (Dietary Approaches to Stop Hypertension) प्लान मूल रूप से अमेरिका के नेशनल इन्स्टीट्यूट ऑफ हेल्थ द्वारा हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए डिजाइन किया गया है। लेकिन ये वेट लॉस, कोलेस्ट्रॉल कम करने और डायबिटीज के मरीजों के अलावा बेहतर हेल्थ के लिए भी काफी अच्छा डाइट प्लान है। इस प्लान को भारतीय डाइट के हिसाब से फूड एंड न्यूट्रिशन एक्सपर्ट रूपाली तिवारी ने तैयार किया है। Read Dash Diet Plan to Control High BP in Hindi (DASH Diet Plan High BP Control Kare)

High Blood Pressure Ke liye Diet Plan in Hindi

DASH Diet Plan to Control High BP in Hindi

(DASH Diet Plan High BP Control Kare)

अनाज– रोज 7-8 बार

मात्रा 1 स्लाइस ब्रेड, आधा कप पके चावल और पास्ता।

 

सब्जियाँ– 4, 5 बार रोज

मात्रा 1 कप कच्ची हरी सब्जियाँ, आधा कप पकी सब्जियाँ

 

फल– 4, 5 बार रोज

मात्रा 1 फल, आधाकप ताजा फल, आधा कप सूखे मेवे, फलों का रस

 

कम फैट व फैट फ्री डेयरी प्रोडक्ट– 2, 3 बार रोज।

मात्रा 8 आउस दूध, 1 कप योगर्हट, 1.5 आउस चीज

 

मांस एवं फिश– 2, 3 रोज

मात्रा – 3 आंउस पका मांस एवं फिश

 

नट्स, सिड्स व फलिया– सप्ताह में 4-5 बार

मात्रा 1/3 आधा कप नट्स, 2 चम्मच बीज, आधा कप सुखे फलिया।

 

फल एवं तेल– 2 – 3 चम्मच रोज

मात्रा – 1 चम्मच वनस्पति तेल, 1 चम्मच कम फैट वाले मायोनाइज, 2 चम्मच हल्का सलाद।

 

मिठाई– सप्ताह में 4, 5 बार

मात्रा 1 चम्मच शुगर

 

पोटेशियम, मेगनेशियम व फाइबर की उचित मात्रा के कारण उपर दिए गए आहार को शामिल करे। एपल, हरी फलियाँ, अंगूर तरबुजा, पाइनेपल, पालक, योगर्हट (फैट फ्री) खुबानी, ब्राकोली, खजूर, हरे मटर, ओरेंज, आलु, स्ट्राबेरिज, टमाटर, केला, गाजर, आम, किशमिश, शकरकन्द।

यह सभी फल एवं सब्जियाँ DASH DIET में आते है। इन सारे फल एवं सब्जियाँ को अपने आहार में शामिल करे। ये DASH डाइट प्लान आपका वजन तो घटाएगा ही साथ ही साथ आपके ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को भी मेन्टेन करेगा।

Load More ...