Traditional Healing

Ear cleaning Tips in Hindi

कान में मैल जमना कोई असामान्य बात नहीं है। हम सभी के साथ ऐसा होता है और समय-समय पर कान की सफाई करना भी बेहद जरूरी है। सही सफाई न होने पर कान में दर्द, खुजली, जलन या बहरापन जैसी समस्याएं हो सकती है। आइये जानते है कि कैसे की जाए कान की सफाई। Read Kaan dard ka ilaj upay in hindi

गरम पानी (Warm Water for Ear Pain in Hindi)

पानी को हल्का-सा गुनगुना करें और रूई की सहायता से कान के अंदर डालें। कुछ समय तक इसे कान में ऐसे ही रहने दें और कुछ सेकंड बाद इसे कान से उलटकर पानी को बाहर निकाल दें। यह कान की सफाई का सबसे आसान तरीका है।

हाइड्रोजन पराक्साइड (Hydrogen Peroxide for Ear Pain in Hindi)

बेहद कम मात्रा में हाइड्रोजन पराक्साइड (hydrogen peroxide) को पानी में घोलकर, कान में डालें। अब बचे हुए घोल को कान को उलटकर कान से बाहर निकाल दें। यह तरीका कान की सफाई के लिए काफी प्रयोग में लिया जाता है।

तेल (Oil for Ear Pain in Hindi)

मूंगफली, जैतून या सरसों के तेल में थोड़ा सा लहसुन डालकर तड़का लें। अब तेल का गुनगुना गरम रह जाने पर रूई की सहायता से कान में डालें और ढंक लें। ऐसा करने से कान का मैल असानी से बाहर आ जाता है।

प्याज का रस (Onion Juice for Ear Pain in Hindi)

प्याज को भाप में पकाकर या भूनकर, इसका रस निकाल लें। अब  इस प्याज के रस की कुछ बुँदे droper या रूई की सहायता से कान के अंदर डालें। इससे कान में जमा मैल आसानी से बाहर आ जाएगा।

नमक का पानी (Salt for Ear Pain in Hindi)

गरम पानी में नमक मिलाकर इसका घोल तैयार करें। अब इस घोल की कुछ बूंदे रूई की सहायता से कान में डालें और बाद में कान को उलटकर बाहर निकाल लें। लेकिन ध्यान रहे कि कान में दर्द या कोई खरोंच व घाव होने पर यह तरीका न अपनाएं।

किशमिश और दूध का Heart Tonic!!

Nose Bleeding के लिए इन उपचारो को भी अपनाए

नाक बंद हो जाए, तो यह तरीके आजमाएं

नाक से खून बहने पर करें यह घरेलू उपचार

Remedies for Insomnia in Hindi

आज कल की बदलती जीवनशैली के चलते नींद न आने की समस्या बहुत आम हो गयी है, जो हमारे सेहत के साथ-साथ पूरी जिंदगी को प्रभावित करती है। इसके इलाज के लिए कई तरह के बदलाव के साथ-साथ लोग लाखों रूपए खर्च कर देते हैं, लेकिन फिर भी नतीजा कुछ नहीं निकलता है। अगर आप भी उन लोगों में से हैं, तो यह लेख आपके लिए ही है। Read Insomnia neend na ane ke gharelu upay homeremedies

 

Remedies for Insomnia in Hindi

(Neend Na Ane ka Upchar) neend na aane ke tips in hindi

Insomnia neend na ane ke gharelu upay homeremedies

सामान्यत: बहुत से लोग इस बात को नहीं जानते है, कि आपके कमरे में आने वाली वायु की गुणवत्ता, आपकी नींद और उससे जुड़े सेहत के अन्य पहलुओं को बहुत  प्रभावित करती है। वायु के साथ उसमें मौजूद कण कई तरह की समस्याओं का कारण हो सकते हैं। इसलिए घर में ताजातरीन वायु का होना बहुत जरूरी है। घर के अंदर रखे कुछ पौधे इन समस्याओं को दूर करने में आपकी मदद करेंगे।

टिंडौरी बेल (Tindori Bel for Insomnia in Hindi)

सब्जी के रूप में प्रयोग की जाने वाली टिंडौरी का पौधा (बेल) सबसे बेहतर वायु शोधक के रूप में जाना जाता है। शोध के अनुसार यह वायु को 94 % तक शुद्ध करने का काम करता है। यह खास तौर से रात के समय अस्थमा या सांस संबंधी समस्याओं में काफी लाभदायक होता है और आरामदायक नींद के लिए यह बेहतरीन है।

एलोवेरा (Aloevera for Insomnia in Hindi)

एलोवेरा यानि ग्वारपाठे का पौधा घर में रखना केवल नींद के लिए ही नहीं बल्कि सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। एलोवेरा रात के समय oxygen का निष्कासन करता है जिसका सकारात्मक असर सेहत पर भी नजर आता है। यह अनिद्रा (sleeplessness) की बीमारी से बचाता है और बेहतर गुणवत्ता वाली नींद भी देता है।

चमेली (Jasmine for Insomnia in Hindi)

इस आकर्षक और खुशबूदार पौधे को घर में लगाने के अनगिनत फायदे हैं। यह न केवल आपके तनाव और बेचैनी को कम करता है बल्कि आपको बेहतरीन नींद भी देता है। यही नहीं, बेहतर नींद लेने के बाद आप खुद को तरोताज़ा, कफी सक्रिय और सतर्क भी महसूस करते हैं। मानसिक रोग होने की स्थि‍ति में यह बेमि‍साल साबित होता है।

Also Read  हमे नींद की जरूरत क्यों होती है

लैवेंडर (Lavender for Insomnia in Hindi)

अब तक आपने lavender oil या इससे जुड़े अन्य फायदों के बारे में सुना होगा, लेकिन इस पौधे को घर में लगाने के बाद आपको इसके कई फायदे मिल सकते हैं। यह वातावरण के साथ-साथ आपके मूड को भी सकारात्मक बनाए रखता है। इसके अलावा यह बेचैनी और तनाव को भी कम करता है, साथ ही बेहतर और आरामदायक नींद लेने में मदद करता है। रात में सोते समय बच्चों का रोना भी इससे कम होगा।

स्नेक प्लांट (Sarpgandha for Insomnia in Hindi)

यह पौधा केवल आपके घर की सजावट को बढ़ाने के लिए ही नहीं, बल्कि यह आपको बेहतर नींद भी देता है। यह वायु की शुद्धता को बनाए रखने के साथ साथ वातावरण को बेहतर बनाए रखने में मदद करता है।

यह पौधा सांस संबंधी तकलीफ, आंखों में होने वाली असहजता और सिरदर्द की समस्या को कम करने में मदद करता है और आपको सक्रिय बनाता है। अच्छी नींद ले कर वजन कम करे

Image Source

अच्छी नींद के लिए गरम दूध है फायदेमंद

आइये जानते है नींद लाने के सरल उपाय

निद्रा-विचरण (Sleep Walking) को रोकने की घरेलू चिकित्सा

घरेलु नुस्खे के लाभ – Home Remedies in Hindi

घरेलु नुस्खों से करे वजन कम

Arthritis Patients Ke Liye Diet in Hindi

सेहत और सुंदरता के लिहाज से हल्दी (turmeric) के कई फायदे हैं और anti-biotic के रूप में भी हल्दी (turmeric) का इसतेमाल किया जाता है। लेकिन सभी के लिए हल्दी (turmeric) उतनी ही फायदेमंद हो यह जरूरी नहीं है। कुछ स्थि‍तियों में हल्दी (turmeric) का प्रयोग बेहद खतरनाक भी साबित हो सकता है। जानिए किन स्थतियों में हमें नहीं करना चाहिए हल्दी (turmeric) का प्रयोग। Read Haldi in Hindi

Turmeric Side Effects in Hindi

(Haldi in Hindi)

गर्भावस्था ( Pregnancy – Haldi in Hindi)

गर्भावस्था में या फिर शि‍शु होने के बाद तक महिलाओं के लिए हल्दी (turmeric) का प्रयोग हानिकारक साबित हो सकता है। हल्दी (turmeric) को मासि‍क धर्म में रूकावट या महिलाओं की अन्य समस्याओं में काफी सहायक माना जाता है, जो गर्भाशय (uterus) को उत्तेजित या सक्रिय करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। हल्दी (turmeric) का प्रयोग टेस्टोस्टेरॉन (testosterone) के स्तर को कम करने में भी सहायक है। नॉर्मल डिलीवरी के लिए टिप्स

पथरी (Avoid Haldi in Kidney Stone in Hindi)

यदि आपको पित्ताशय (gallbladder) में पथरी है तो हल्दी (turmeric) का उपयोग करना अति‍रिक्त दर्द भी पैदा कर सकता है। इसलिए पित्ताशय (gallbladder) में पथरी होने पर भोजन में हल्दी (turmeric) का इस्तेमाल कम ही करें और दर्द से दूर रहें।

शुक्राणुओं में कमी (Avoid Haldi in Low Sperm Count in Hindi)

पुरुषों में हल्दी (turmeric) का अधि‍क प्रयोग शुक्राणुओं (sperm) में कमी लाने का कार्य करता है। ऐसे में यदि आप family planning की योजना बना रहे हैं, तो हल्दी (turmeric) का ज्यादा प्रयोग न करें। पुरूषों की फर्टिलिटी बढ़ाने वाले आहार

डाइबिटीज (Avoid Haldi in Diabetes)

हल्दी (turmeric) का प्रयोग शर्करा (glucose) के स्तर को कम करने का कार्य करता है। जिससे रोगी रक्त में शर्करा (glucose) के कम हो रहे कम स्तर को महसूस करता है। इसका मतलब है कि डाइबिटीज के रोगियों को हल्दी (turmeric) का प्रयोग करने की इजाजत जरूर है, लेकिन सीमित मात्रा में। दालचीनी Diabetes को Control करने के लिए एक Perfect औषधि

सर्जरी होने पर (Avoid Haldi after Surgery in Hindi)

यदि आप किसी प्रकार की surgery से गुजरे हैं तो आपको हल्दी (turmeric) का प्रयोग बिल्कुल बंद कर देना चाहि‍ए क्योंकि हल्दी (turmeric) रक्त का थक्का जमने से रोकती है और इस वजह से surgery के दौरान या बाद में अतिरिक्त खून भी बह सकता है।

Image Source

और पढ़े

 

जानिए हमेशा जवान दिखने के कुछ नुस्खे

क्यों होता है सीने में दर्द

एप्पल साइडर विनेगर के फायदे

वजन घटाने के महत्वपूर्ण तरीके

रहस्य दिल को स्वस्थ रखने के

Benefits of Peepal for Heart Blockage in Hindi

आयुर्वेद में प्रकृति के द्वारा हर समस्या का समाधान मौजूद है। हमारे आसपास प्रकृति में कई औषधियां छुपी हुई हैं, जिनके बारे में हम जानते ही नहीं है। हिंदू धर्म में पीपल के पेड़ को देवतुल्य मानकर उसकी पूजा की जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं, पीपल हृदय रोग के लिए वरदान है। Read Benefits of Peepal for Heart Blockage in Hindi (Heart Blockage ke Liye Peepal ke fayde).


Heart Blockage ke Liye Peepal ke fayde – benefits of peepal leaf for heart in hindi – pipal ke patte for heart – pipal ke patte ka upyog – peepal leaves for heart attack

दिल के आकार के इस पत्ते में हृदय संबंधी समस्याओं का हल छुपा हुआ है। सबसे खास बात यह है, कि पीपल दिल के 99 % blockage को भी समाप्त करता है। आइए जानते हैं हृदय से जुड़ी समस्या में कैसे करें पीपल का प्रयोग।

ह्दय संबंधी समस्याओ या heart attack हो जाने की स्थि‍ति में पीपल के पत्तों का काढ़ा बेहद लाभकारी सिद्ध होता है। आइए जानते हैं, इसे बनाने और पीने का तरीका।

  • सबसे पहले, 15 पीपल के पत्ते जो हरे, आकार में बड़े और पूरी तरह से विकसित हो उसे तोड़ लें।
  • इन सभी पत्तों के ऊपर व नीचे के भाग को कैंची से काटकर अलग कर दें।
  • अब पानी से पत्तों को धो लें और लगभग एक गिलास पानी में पत्तों को धीमी आंच पर पकाएं।
  • जब पानी उबलकर एक-तिहाई रह जाए, तब उसे ठंडा करके छान लें और fridge या अन्य किसी ठंडे स्थान पर रख दें।

 

कैसे करें सेवन (How to Have Peepal for Heart Disease) 

इस पानी को तीन भागों में बांट लें और हर तीन घंटे में इसका सेवन करें।

इस दवा का रोज़ सेवन करने से heart attack के बाद भी हृदय पहले की तरह स्वस्थ हो जाएगा और दोबारा दिल के दौरे की संभावना भी खत्म हो जाएगी। हृदय रोगियों के लिए यह एक अच्छा, सरल और सुलभ उपाय है, जिससे दिल के सभी प्रकार के रोग ठीक हो जाते हैं। इस काढ़े के सेवन से दिल मजबूत होता है और आप बेहद ठंडक और शांति महसूस करते हैं।

Image Source

कैसे बचे हार्ट ब्लॉकेज से

महिलायें रखे अपने दिल का ख्याल

चाय पीने के होते है कई नुकसान आइये जानते है

Remedies For Leucoderma In Hindi

शरीर के किसी भी अंग में त्वचा पर सफेद धब्बे होना, जिन्हें आम भाषा में सफेद दाग कहा जाता है। इन सफ़ेद धब्बो को जटि‍ल समस्या माना जाता है जो आसानी से ठीक नहीं होती है। इसके लिए Doctors अलग-अलग कारणों को जिम्मेदार बताते हैं, जिनमें melanin बनाने वाली कोशि‍काओं पर प्रतिरोधकता का प्रभाव, पराबैंगनी किरणों का प्रभाव, vitamin B 12 की कमी, अत्यधि‍क तनाव, अनुवांशि‍कता, त्वचा पर किसी प्रकार का infection होना आदि। कुछ घरेलू प्रयोग आपकी त्वचा की इस असमानता को मिटाने में मदद कर सकते हैं। Read Safed daag ka ilaj in Hindi, Vitiligo Treatment in Hindi – Safed daag ka Ilaj in Hindi – Safed Daag ka Gharelu Upchar

 

77396789d5b8513ed6f91da872c12b3a

Vitiligo Treatment in Hindi – Safed daag ka Ilaj in Hindi – Safed Daag ka Gharelu Upchar

तांबा (Copper for Vitiligo in Hindi)

तांबा (copper) तत्व, त्वचा में melanin के निर्माण के लिए बेहद आवश्यक है। रात में तांबे (copper) के बर्तन में पानी भरकर रखें और सुबह खाली पेट इस पानी को पिएं। बरसों पुराना यह तरीका melanin निर्माण में सहायक है।

नारियल तेल (Safed daag ke liye nariyal ka tel)

यह त्वचा को पुन: वर्णकता (Pigmentation) प्रदान करने में सहायक है साथ ही त्वचा के लि‍ए भी बेहतर है। इसमें antibacterial और infection विरोधी गुण भी पाए जाते हैं। दिन में 2 से 3 बार प्रभावित त्वचा पर नारियल तेल (coconut oil) से massage करना फायदेमंद हो सकता है।

हल्दी ( Haldi for vitiligo in Hindi

सरसों के तेल (mustard oil) के साथ हल्दी पाउडर (turmeric powder) का लेप बनाकर लगाना फायदेमंद है। इसके लिए 1 कप या लगभग 250 ml सरसों के तेल (mustard oil) में 5 बड़े चम्मच हल्दी पाउडर (turmeric powder) डालकर मिलाएं। दिन में दो बार इस लेप को प्रभावित त्वचा पर लगाएं। 1 साल तक लगातार इस लेप का प्रयोग करें। इसके अलावा आप हल्दी पाउडर (turmeric powder) और नीम की पत्ति‍यों के लेप का प्रयोग भी कर सकते हैं।

नीम (Neem for Vitiigo in Hindi)

नीम एक बेहतरीन रक्तशोधक (antiscorbeti) और infection विरोधी तत्वों से भरपूर औषधि‍ है। छाछ के साथ नीम के पत्त‍ियों को पीसकर इसका लेप बना लें। इस लपे को त्वचा पर लगाएं और फिर पूरी तरह से सुख जाने पर इसे धो लें। इसके अलावा आप नीम के तेल का प्रयोग और नीम के जूस का सेवन भी कर सकते हैं।

लाल मिट्टी (Red Mud for )

लाल मिट्टी में प्रचुर मात्रा में तांबा (copper) पाया जाता है, जो melanin के निर्माण और त्वचा के रंग का पुन: निर्माण करने में मददगार है। लाल मिट्टी को अदरक के रस के साथ मिलाकर भी प्रभावित स्थान पर लगाए, यह बहुत फायदेमंद होगा।

अदरक (Ginger for Vitiligo in Hindi)

रक्तसंचार (blood circulation) को बेहतर बनाने और melanin के निर्माण में अदरक काफी फायदेमंद है। पानी में अदरक के रस को मिलाकर पिएं और प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar for vitiligo in Hindi)

सेब के सिरके को पानी के साथ mix करके प्रभावित त्वचा पर लगाएं। 1 गिलास पानी में 1 चम्मच सेब का सिरका (apple cider vinegar) मिलाकर पीना भी फायदेमंद होगा।

Image Source

ये भी पढ़े

किस बीमारी में कौन सा रस पिए

त्वचा में कोलेजन बढ़ाने के लिए डाइट

विटामिन B12 के स्वास्थ्य लाभ

How to Straighten Hair Naturally in Hindi

रसोई में मिलने वाले बीज बालों की अच्छे से देखभाल करते हैं। बालों को सही प्रकार से रखने के लिए ये एक सही माध्यम हैं। अगर रोज़ाना आप बालों की समस्याएं का सामना कर रहे हैं तो ये बीज आपके लिए काफी फायदेमंद हैं। ये प्राकृतिक उपाय बालों के स्वास्थ्य और बढ़त में बड़ी भूमिका निभाते हैं। Read about Balo ko Lamba karne ke Upay

Hair Care Tips with Kitchen Seeds

Hair Care Tips  in Hindi – Balo ko Lamba karne ke Upay – Homemade hair Care tips in Hindi – Long hair Care Tips in Hindi 

 

मेथी के बीज (Methi Tips for Hair in Hindi)

मेथी के बीज (fenugreek seeds) अच्छे से बालों की देखभाल करने के लिए जाने जाते हैं। मेथी के बीज (fenugreek seeds) का बालों पर उपचार सबसे सस्ते तरीकों में से एक है। इसकी गुणवत्ता बढ़ाने के लिए इसे बालों के pack में मिलाएं। 3 चम्मच मेथी के बीजों (fenugreek seeds) को पर्याप्त मात्रा के पानी में मिलाएं और इसे 8 से 10 घंटे के लिए छोड़ दें। इन्हें पीसकर एक paste बनाएं। इस paste को अपने सिर और बालों में लगाएं। इस pack से बाल मज़बूत होते हैं और बालों के झड़ने की समस्या से मुक्ति मिलती है।

तिल के बीज ( Til for Hair in Hindi)

उम्र बढ़ने के साथ साथ ही हमारे बाल भी सफ़ेद होने लगते हैं, पर इस प्रक्रिया को धीमा करने में तिल के बीज (sesame seeds) काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 1 महीने तक रोज़ 1 चम्मच तिल के बीजों का सेवन करें और फर्क देखें। इसके अलावा इन्हें बालों के pack में भी डाल सकते हैं, या फिर इससे अलग से बालों का pack भी बना सकते हैं।

नीम (Neem for Hair in Hindi)

कड़वे नीम में कई औषधीय गुण होते हैं। नीम के बीज का तेल बालों की देखभाल का एक तरीका है और इससे आपको स्वस्थ और घने बाल मिलेंगे। बाल घने करने के लिए नीम के बीज के तेल को वनस्पति तेल जैसे नारियल तेल (coconut oil) और सरसों के तेल के साथ मिलाएं और सिर पर इसकी अच्छे से मालिश करें। इसे 1 से 2 घंटों के लिए लगा कर छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें। इससे आपके बाल स्वस्थ और घने बनेंगे।

अनार के बीज (Pomegranate seeds for Hair)

अनार के बेहतरीन स्वाद से हम सब परिचित हैं, पर कम ही लोग जानते है की यह बालो के लिए कितने फायदेमंद हैं। अनार के बीज बालों को पोषण देते हैं तथा सर की खुजली और सूखेपन से बचाते हैं। आप रूखे, सूखे बालों के लिए प्राकृतिक hair pack द्वारा इसके रस का प्रयोग कर सकते हैं, या अच्छे परिणामों के लिए इसे बादाम या जोजोबा के तेल के साथ मिला कर लगाए।

करौंदे के बीज (Cranberry seeds for Hair)

करौंदे के बीज (cranberry seeds) बालों की देखभाल में प्रमुख भूमिका निभाते हैं। करौंदे के बीज (cranberry seeds) के तेल को उँगलियों पर लेकर सिर पर अच्छे से मालिश करें। यह बालों को पोषण दें कर इसे सूखेपन से मुक्त करने का एक काफी प्रभावी तरीका है। इस तेल को गर्म करके भी इसका फायदा उठाया जा सकता हैं।

लौकी के बीज (Grape seed oil for Hair)

लौकी के बीज protein से भरे होते हैं और इनमें minerals की मात्रा भी काफी अधिक होती है। इस वजह से ये बीज बालों के लिए काफी अच्छे होते हैं। इस बीज का प्रयोग करना शुरू करने पर आपको बाल झड़ने की समस्या में कमी आती दिखना शुरू हो जाएगा। इस बीज के इस्तेमाल से मर्द Prostatic Hyperplasia की स्थिति से भी बच सकते हैं।

BPH और बालों का झड़ना (Bottle Gourd seeds for BPH and hair loss)

जब आप dht (Dihydrotestosterone) के शिकार है तो ये दर्द काफी ज़्यादा बेचैनी पैदा करने वाला हो सकता है। इसके अंतर्गत मूत्रमार्ग के पास संकुचन (Contractions) उत्पन्न हो जाता है और मूत्र विसर्जन में परेशानी (दर्द) होती है। ये समस्या बूढ़े लोगों में आम होती है, इसलिए ये आवश्यक है कि आप लौकी के बीजों का सेवन करें। dht (Dihydrotestosterone) का सम्बन्ध सीधे बालों के झड़ने से है इसलिए लौकी के बीजों का प्रयोग करना आवश्यक है।

लौकी के बीजों द्वारा बालों की बढ़त (Bottle Gourd seeds for Hair Regrowth)

ये बीज बालों के दोबारा उगने में मदद करते हैं। अगर आप बालों के झड़ने की समस्या (hair fall) से परेशान हैं तो ये आपके लिए बेहतरीन विकल्प है। लौकी के बीज बालों को पूरा पोषण देते हैं। बाल बढाने के लिए इसका paste बनाकर एक बार सिर पर लगाए, ये अंदर तक चला जायेगा और रक्त में मिश्रित हो जायेगा। यह बालों की कोशिकाओं को खराब होने से रोकता है और बालों का झड़ना भी कम करना है।

सिर की रक्षा (Bottle Gourd seeds to Protect the Scalp)

यह बीज बालों को पतला होने से बचाते हैं। बालों को बेजान और पतले होने के कई कारक होते है जैसे प्रदूषण, फ़ास्ट फ़ूड, दवाइयाँ, chemicals तथा कई और। इन सब समस्याओं से बचने के लिए बालों में लौकी के बीजों का paste लगाएं। इससे आपके बाल घने और मज़बूत बनेंगे। इसमें calcium तथा magnesium होता है जो सिर की रक्षा करते हैं और बाल झड़ने से रोकते हैं।

Image Source

ये पढ़े

शकर के ये नुकसान – Sugar side effects in Hindi

सरसों के साग के फायदे

आँखों की सुरक्षा के आसान और प्राकृतिक तरीके

जाने हेल्थी Nails के लिए टिप्स

How to Straighten Hair Naturally in Hindi

बाल खराब होने के कई कारण होते हैं, जैसे कि वातावरण का प्रदूषण, बालों के उत्पादों में मौजूद chemical और बालों को संवारने के लिए औज़ारों का उपयोग। यह उतनी आसानी से ठीक नहीं होते हैं जितनी आसानी से खराब होते हैं। बालों के उत्पादों पर ध्यान देकर और कुछ प्राकृतिक नुस्खों के प्रयोग से हम अपने खराब बालों को ठीक कर मजबूत और सुंदर बना सकते हैं। यहाँ कुछ बेजान और खराब बालों को सही करने के कुछ घरेलू दिए जा रहे है। Read Gharelu nuskhe in hindi long Hair tips, dadi maa ke nuskhe in hindi for hair fall – baal lambe karne ke gharelu nuskhe hindi me – gharelu nuskhe for hair growth in hindi

 

Remedies to Treat Damaged Hair in Hindi

 

1. गर्म तेल का उपचार (Hot Oil for Hair in Hindi)

गर्म तेल का उपचार खराब, तैलीय और सूखे बालों को ठीक करने का एक बेहतरीन नुस्खा है। इसे बनाना बहुत आसान है, इसे बनाने में कुछ ही मिनट लगते हैं। इसे हलके गर्म तापमान पर आने दें और फिर बालों की जड़ों, सिर और प्रभावित भाग पर लगाएं। एक से दो घंटों तक इसे लगा रहने दें और फिर सामान्य रूप से धो लें। जब नारियल का तेल (coconut oil) उबल रहा हो तो आप इसमें अपने पसंदीदा आवश्यक तेल की कुछ बूँदें भी डाल सकते हैं। इससे सुगंध अच्छी आती है।

2. शहद और दूध (Milk for Hair in Hindi)

शहद और दूध का मिश्रण खराब बालों को ठीक करने के लिए काफी प्रभावी उपाय है। अगर आपके बाल खुरदुरे हैं तो आप मलाई का प्रयोग कर सकते है और अगर आपके बाल नरम हैं तो आपको मलाई रहित दूध का प्रयोग करना चाहिए।

2 कप दूध लें और इसे 3 से 4 मिनट तक उबालें। अब इसमें 2 चम्मच शहद डाल कर इसे अच्छे से मिलाए जब तक कि यह अच्छे से घुल ना जाvए। इस मिश्रण को बालों पर लगाएं और ज़्यादा ध्यान बालों की लटों पर दें। 45 मिनट तक इस मिश्रण को बालों पर लगा कर रखें। अब इसे सादे पानी और shampoo से धो दें।

अगर आप इस मिश्रण को बनाने के लिए कम वसा वाले दूध (low fat milk) का इस्तेमाल कर रहे हैं तो इस मिश्रण को गाढ़ा बनाने के लिए इसमें एक चम्मच आटा डाल दें।

3. जैतून के तेल और केले का मास्क (Balon ke liye jaitun ka tel)

अगर आपके बाल पर्यावरण के प्रदूषण (pollution), बालों के उत्पादों में मौजूद chemicals या फिर flat iron या Curling Iron की वजह से खराब हुए हैं तो आप केले और जैतून के तेल (olive oil) के mask का प्रयोग करके रूखे और खराब बालों को नया जीवन प्रदान कर सकते हैं।

एक मध्यम आकार का केला लें और इसे 1 चम्मच जैतून के तेल (olive oil) के साथ blender में डाल दें। इन्हें अच्छे से मिलाकर इसका एक महीन paste तैयार कर लें। ध्यान रखें कि केले के इस paste में कोई गाँठ ना आए। यह गांठें बाद में बालों में चिपक सकती हैं और फिर बाल धोने में आपको ज़्यादा समय लग सकता है। बालों को अलग अलग भागों में विभक्त करें और इस मिश्रण को लगाएं। अपने सिर को 30 से 40 मिनट तक ढक कर रखें और फिर एक सौम्य shampoo की मदद से धो दें। इसके बाद बालों की conditioning करें।

केले में काफी मात्रा में मौजूद Amino acid tryptophan बालों को मज़बूत बनाता है और इसमें मौजूद potassium बालों के ph level को नियंत्रण में रखता है।

4. नाशपाती और जैतून का तेल (Avocado and Olive Oil for Damaged Hair)

एक नाशपाती लें और इसे mesh करके इसका paste बनाएं। इस paste में दो चम्मच जैतून का तेल (olive oil) डालें और अच्छे से मिलाएं। अब इस मिश्रण को बालों पर लगाएं तथा नीचे से शुरुवात करें। इस को लगाते समय प्रभावित भाग पर ज़्यादा ध्यान दें। सिर और सिर से उगे बालों के पहले 2 इंच को छोड़ दें। इस मिश्रण को करीब 20 से 30 मिनट तक बालों में रखें और फिर किसी आम shampoo की मदद से धो दें। नाशपाती में मौजूद नमी देने वाले गुण खराब बालों की अच्छे से देखभाल करता है।

Image Source

Remedies For Long and Strong Hair In Hindi

गुड़हल (hibiscus) के फूल का प्रयोग बालों का झड़ना रोकने के लिए किया जाता है। इसके सिर्फ फूल से नहीं बल्कि इसकी पत्तियों से भी आपको काफी लाभ मिलता है। वैकल्पिक तौर पर क्षतिग्रस्त बालों को ठीक करने और इनकी जड़ों को मज़बूती प्रदान करने के लिए गुड़हल (hibiscus) के तेल का प्रयोग कर सकते हैं। Read about Hibiscus gudhal ke fayde for hair in Hindi, hibiscus oil for hair, hibiscus powder for hair growth, hibiscus leaves for grey hair, hibiscus hair mask,  hibiscus for hair in hindi

Hibiscus Mask for Hair in Hindi Hibiscus Mask for Hair in Hindi

(Baalo ke Liye Hibiscus Mask)

1. गुड़हल  और जैतून का तेल (Hair Oil with Hibiscus Gudhal ke fayde for hair in Hindi)

गुड़हल (hibiscus) की पत्तियों और फूलों के साथ जैतून का तेल (olive oil) मिलाकर इसे shampoo की तरह प्रयोग में ला सकते हैं। इस मिश्रण के लिए आपको 3 से 4 गुड़हल (hibiscus) के फूल चाहिए होंगे। गुड़हल (hibiscus) के पेड़ की पत्तियों को भी एक सामान मात्रा में लें। मूसल और मोर्टार की मदद से गुड़हल (hibiscus) की पंखुड़ियों को मसल लें। एक बार ये हो जाने पर इस paste को महीन बनाने के लिए इसमें जैतून के तेल (olive oil) की कुछ बूँदें और थोड़ा पानी डालें। अब इस mask को बालों में इस तरह लगाएं कि ये बालों के जड़ों तक पहुँच जाए। इस pack को 15 मिनट तक रखें और फिर धो दें।

2. गुड़हल  और प्याज (Onion & Hibiscus Gudhal ke fayde for hair in Hindi)

हम सभी जानते हैं कि प्याज का प्रयोग बालो को स्वस्थ रखता हैं। गुड़हल (hibiscus) के पत्ते और  फूल भी झड़ते बालो को रोकने के लिए अहम भूमिका निभाते हैं। आप इन दोनों पदार्थों (गुड़हल (hibiscus) और प्याज) को मिलाकर बालों को स्वस्थ और सुन्दर बना सकते हैं। एक ताज़े प्याज़ को छील लें। इसके बाद इसे grinder में डालकर इसका गूदा बना लें। इस गूदे से पानी को निचोड़ कर इसका रस एक पात्र में रख लें। इसमें गुड़हल (hibiscus) के पत्तों का रस डालें और अच्छे से मिलाएं। इस pack को बालों पर लगाएं और असर देखें।

3. गुड़हल और आंवला (Amla Oil & Hibiscus Gudhal ke fayde for hair in Hindi)

सदियों से आंवला का प्रयोग बालों के उपचार के लिए किया जाता रहा है। कच्चा आंवला खाने से भी बालों को पोषण मिलता है और चेहरे पर चमक आती है। अगर आप आंवले के रस के साथ गुड़हल (hibiscus) की पत्तियों का रस मिलाएंगे तो बाल बिलकुल स्वस्थ हो जाएंगे और बालो के झड़ने की समस्या से मुक्ति मिलेगी।

4. अदरक और गुड़हल (Hibiscus) के पत्ते  Ginger Hibiscus Gudhal ke fayde for hair in Hindi)

लोगों को अकसर बाल झड़ने के साथ साथ बालों के पतले होने की भी  समस्या होती है। बालों को पतले होने से बचाने के लिए अदरक एक बेहतरीन उपाय है। इस hair pack को बनाने के लिए अदरक की जड़ का एक छोटा सा भाग लें। इसे पीस कर इसका रस निकालें। अब गुड़हल (hibiscus) के फूल से रस निकाल लें और इसे अदरक के रस के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को बालों पर अच्छी तरह से लगाएं जिससे एक भी बाल नहीं टूटेगा। अगर आप इसका प्रयोग रोज़ाना करेंगे तो बालों का दोबारा उगना भी संभव है।

5. गुड़हल  और करी पत्ते (Curry Leaves & Hibiscus Gudhal ke fayde for hair in Hindi)

प्रकृति में ऐसी कई जड़ीबूटियां हैं, जो बालों को स्वस्थ रखने में काफी अहम भूमिका निभाती हैं। इसका एक और उदाहरण गुड़हल (hibiscus) और करी पत्तों का मिश्रण है। आप गुड़हल (hibiscus) की पत्तियों, करी पत्तों और नारियल तेल (coconut oil) की कुछ बूँदें मिलाकर एक paste बनाएं। इसे अच्छे से इस तरह मिलाएं। एक बार महीन paste बन जाने पर इसे बालों पर अच्छी तरह से लगाएं और किसी भी हिस्से को न छोड़ें। क्योंकि इसमें नारियल तेल (coconut oil) मिला हुआ है, इसलिए यह बालों की मसाज काफी अच्छे से करता है।

Image Source

Benefits of Hibiscus Oil for Hair in Hindi

अब आप जान सकते हैं की गुड़हल (hibiscus) की पत्तियों के द्वारा गुडहल (hibiscus) का तेल और shampoo केसे बनाये जा सकते है। यदि सही तरीके से प्रक्रिया को दोहराया जाये तो आप आसानी से shampoo, तेल और conditioner पा सकते है। यहाँ पर कुछ आसान तरीके बताए जा रहे है जिसके द्वारा आप इसे बना सकते है। इस अदभुत तेल को बनाने के लिए लोग प्राचीन पत्थर और मूसल का प्रयोग करते है। इस आयुर्वेदिक पदार्थ का इस्तेमाल करें और 2 से 3 हफ्ते के बाद बालो में फर्क देखें। निश्चित रूप से आप अपने बालो में कमाल का परिवर्तन पायेगी। हो सकता है शुरुवात में आपको बाल आकर्षक न दिखे और फर्क महसूस ना हो लेकिन जब आप बालो को छू कर देखेंगी तो फर्क अपने आप पता चलेगा। Read  Hibiscus gudhal Hair Mask in Hindi

Benefits of Hibiscus Oil for Hair in Hindi

(Hibiscus gudhal Hair Mask in Hindi)

Benefits of Hibiscus Oil for Hair in Hindi

गुड़हल हेयर केयर तेल बनाने के लिए सामग्री (Hibiscus gudhal Oil for hair in hindi)

  • नारियल तेल (coconut oil)
  • गुड़हल के फूल (hibiscus flower)
  • एक साफ कंटेनर या बोतल
  • गुड़हल के पत्ते (hibiscus leaves)
  • प्राचीन पत्थर और मूसल

बनाने की विधि (How to make Hibiscus Gudhal Oil?)

  1. गुडहल का तेल बनाने के लिए गुड़हल (hibiscus) के फूलो और पत्तियो को तोड़ कर मूसल की सहायता से पिस ले।
  2. अब एक साफ बर्तन ले और उसे आधा नारियल तेल से भर दे। अब इसमें पीसी हुई पत्तियो और फूलो को डूबा दे।
  3. फिर इसे 4 से 5 मिनट के लिए उबलने दें।
  4. अब इस मिश्रण को कुछ देर के लिए ठंडा होने के लिए छोड़ दे।

इस्तेमाल करने की विधि (How to Use Hibiscus Oil for Hair)

इसे इस्तेमाल करने के लिए एक विशेष प्रक्रिया है। जेसे ही तेल ठंडा हो जाए इसे आसानी से सिर पर लगाया जा सकता है। पर्याप्त समय देने के लिए आप सिर पर धीरे धीरे मालिश कर सकती है। यह तेल बालो की जड़ में जा कर उचित पोषण प्रदान करता है। जब आप निश्चित हो जाए की तेल बालो की जड़ में चला गया है तब 10 से 15 मिनट के लिए बालो को तोलिये से लपेट दे और बिलकुल हाथ न लगाए और फिर गर्म पानी एवं shampoo से बालो को अच्छी तरह धो ले।

गुड़हल शेंपू बालो के लिए  (Hibiscus Hair Shampoo in Hindi)  

आप गुड़हल (hibiscus) से बालो के लिए shampoo भी घर पर बना सकते है। इसके लिए आप गुड़हल (hibiscus) की पत्तियो को प्राचीन पत्थर के द्वारा पिस सकती है। एक छोटी कटोरी में गुड़हल (hibiscus) की पत्तिया ले और बारीक़ paste बना ले। अब इसमें कुछ जैतून का तेल (olive oil) मिलाए, इससे paste और गाढ़ा हो जाएगा।

लगाने की विधि (How to apply Hibiscus Shampoo)

जब shampoo तैयार हो जाए तब इस paste को shampoo की तरह अपने पुरे बालो पर फेला ले। इसमें जैतून का तेल (olive oil) मिला हुआ है तो यह झाग नहीं बनाएगा, इसे तेल की तरह लगाया जा सकता है। याद रहे की paste जड़ से लेकर बालो के सिरे तक सभी जगह लग जाए। आप इसे 15 मिनट के लिए रख सकते है और फिर इसे गर्म पानी से अच्छी तरह से धो ले।

बालों के लिए गुड़हल मास्क (Hibiscus gudhal Hair Mask in Hindi)

अब आप सभी तरह के बालो के लिए उपयुक्त mask की प्रक्रिया पा सकते है। अगर आप बाजार में बालों के लिए मिलने वाले विभिन्न प्रकार के उत्पादों से  डरते हैं क्यों की यह हानिकारक होते है तो आप  इस mask को बालो पर लगाए। जो लोग अपने बालो को प्रदुषण और धुल की वजह से खो रहे है उनके लिए यह बहुत ही असरदार उपचार है।

गुड़हल मास्क बनाने के लिए सामग्री और विधि (how to make Hibiscus gudhal Hair Mask in hindi)

  1. एक बर्तन, गुड़हल (hibiscus) के लाल फूल, मेहँदी का तेल और दही।
  2. गुड़हल (hibiscus) के कुछ फूलो को 2 दिन के लिए धुप में सूखने दें।
  3. इसमें नमी नहीं होनी  चाहिए। फूलो के पूरी तरह से सुख जाने के बाद, फूलो की पंखुडियो को पिस कर इसका powder बना लें।
  4. Mask बनाने के लिए, एक बर्तन मे 3 बड़े चम्मच दही और एक चम्मच गुड़हल (hibiscus) के फूलो का powder डाले।
  5. जब यह powder दही में घुल जायेगा तब फुल गुलाबी रंग छोड़ देंगे।
  6. अब आप इसमें मेहँदी के तेल की 2 बूंद डाले।
  7. आप सभी सामग्री को मिला ले और जब यह गुलाबी रंग छोड़ने लगे तब आपका मिश्रण तैयार हो जायेगा।
  8. अब इसे बालो में लगा ले और 30 मिनट बाद गुनगुने पानी से बालो को धो ले।
Image Source

बाल झड़ने के कारण और उपाय

बालों को ठीक करने के घरेलू नुस्खे

Homemade Hair straightening Tips in Hindi

कई महिलाओं कि इच्छा होती है कि उनके बाल भी सीधे हो। Beauty Parlour में ऐसे कई तरीके उपलब्ध होते हैं जिनकी मदद से बालो को सीधा किया जा सकता है। पर इनमे हानिकारक रसायन (chemicals) होते हैं जो आगे जाकर कई समस्याएँ पैदा सकते है। यहाँ पर आपको कुछ प्राकृतिक घरेलु उपचार बताए जा रहे है जो बालो को सीधा करने के लिए बिलकुल सुरक्षित हैं। Read Hair silky Straight Karne ke Tips in Hindi, hair ko silky karne ke tips, hair straight karne ke tips, balo ko set kaise kare, bal sidhe karne ke upay

Homemade Hair Straightening Tips in Hindi

(Baal Seedhe Karne ke Gharelu Nuskhe)

1. नारियल और नींबू का उपाय (Coconut and Lemon for Hair Straightening)

घुंगराले बालो को सीधे करने के लिए नारियल (coconut) उपयोगी है। नारियल (coconut) रूखे बालों को मुलायम बनाता है और उन्हें नमी प्रदान करता है।

बालों को मजबूत करने के नारियल (coconut) के गुणों से वह बालों को सीधा करने में मददगार होता है। नारियल (coconut) में नींबू मिलाने से दोनों का प्रभाव बढ़ता है।

बनाने का तरीका (Procedure to Make)

  • नारियल (coconut) के टुकडे कर के उनका दूध निकालें।
  • इस दूध में नींबू निचोड़कर इस मिश्रण को फ्रिज में रखें।
  • कुछ घंटों के बाद इस मिश्रण पर एक परत दिखेगी। इस परत को अपने बालों में लगाएं और फिर गर्म तौलिये से अपना सर ढक लें।
  • एक घंटे बाद सौम्य shampoo से बालो को धो लें।
  • इससे आपके बाल नर्म हो जायेंगे। नारियल तेल खाने और लगाने के फायदे

 

2. जैतून का तेल और अंडा (Olive Oil and Egg Hair silky Straight Karne ke Tips in Hindi)

घुंगराले बालों को सीधा करने के लिए जैतून का तेल (olive oil) सर्वोत्तम उपाय है। यह बालों को नमी प्रदान करता है।

बनाने का तरीका (Procedure to make)

  • 2 अंडे लेकर उन्हें फेंट लें।
  • इसमें 3-4 बड़े चम्मच जैतून का तेल (olive oil) मिलाकर फिरसे फेंट लें।
  • इस मिश्रण को बालों पर (ख़ास करके दो मुहें बालों पर) लगाएं।
  • 1 या 2 घंटे तक रखकर सौम्य shampoo से धो डालें।

जैतून का तेल (olive oil) और अंडे बालों की मरम्मत करके उन्हें पोषण प्रदान करते है। 1 बड़े  चम्मच जैतून के तेल  (olive oil) मे 1 बड़ा चम्मच पानी मिलाकर बालों पर लगाएं। यह बालों को चमकीला बनाता है।

 

3. दूध से बना स्प्रे (Milk Spray for Hair Straightening)

बनाने का तरीका (Procedure to Make)

बालों को सीधा करने में दूध काफी मददगार है। Spray की बोतल में आधा कप दूध लेकर बालों पर spray करें। आधे घंटे के लिए छोड़कर फिर सौम्य shampoo से धो डालें। आप अपने बालों में बदलाव महसूस करेंगे।

4. शहद और दूध का उपाय (Milk and Honey for Hair silky Straight Karne ke Tips in Hindi)

बनाने का तरीका (Procedure to Make)

  • आधे कप दूध में 5 बड़े चम्मच शहद मिलाएं।
  • अच्छी तरह से मिलाकर paste बनाएं।
  • बालों पर यह मिश्रण लगाए और सूखने के लिए छोड़ दें। 1 घंटे या उससे ज्यादा देर तक रखें।
  • फिर सौम्य shampoo से बाल धोकर सुखा लें।
  • ज्यादा प्रभाव पाने के लिए दूध और शहद के मिश्रण में केला मिला लें।

ऊपर दिए गए सभी उपाय parlour जैसे एक ही दिन में प्रभाव नहीं दिखाएँगे। इन उपयो का प्रयोग धीरज रखकर करें। इन उपयो को हफ्ते में 2 बार करने से कुछ ही महीनों में आपको बदलाव दिखने लगेंगे।

Image Source

दो मुहे बालो से कैसे छुटकारा पाये

बालों के लिये हीना के फायदे

स्वस्थ बालो के लिए टिप्स

कैसे पाए सफ़ेद बालो से छुटकारा